भ्रम को दूर करने के लिए योगी ने उठाया बड़ा कदम, सीएम रहते हुए अखिलेश की नहीं हुई हिम्मत

लखनऊ: नोएडा को लेकर एक बात बहुत ही प्रसिद्ध है कि उत्तर प्रदेश का जो मुख्यमंत्री यहां का दौरा करता है, अगले चुनाव में उसे सत्ता से हाथ धोना पड़ता है। लेकिन यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ इस बात को दरकिनार करते हुए रविवार को नोएडा के दौरे पर जा रहे हैं। मुख्यमंत्री यह दौरा 9 जुलाई को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के होने वाले कार्यक्रम के चलते कर रहे हैं। वे यहां पीएम मोदी के होने वाले कार्यक्रम का जायजा लेंगे।

मिली जानकारी के अनुसार, सीएम योगी आदित्यनाथ 3:30 बजे डीएनडी बॉर्डर का निरीक्षण करते हुए कार्यक्रम स्थल नोएडा के सेक्टर 81 स्थित सैमसंग इंडिया पहुंचेंगे। इस दौरान सीएम योगी 4:30 बजे पीएम मोदी के नोएडा दौरे से पहले अधिकारियों के साथ समीक्षा बैठक लेंगे। शाम 7:30 बजे मुरादाबाद में वन डिस्ट्रिक्ट वन प्रोडक्ट की समीक्षा बैठक करने के बाद सर्किट हाउस में रात्रि विश्राम करेंगे। वहीं सोमवार को 3 बजे सीएम योगी सर्किट हाउस में बने हेलीपैड से नोएडा के लिए रवाना होंगे। जहां वह पीएम मोदी के कार्यक्रम में शामिल होंगे।

आपको बता दें की पीएम मोदी 9 जुलाई को नोएडा के दौरे पर आ रहे हैं। जहां वह सैमसंग कंपनी के नये प्रोजेक्ट का उद्घाटन करेंगे। उनके साथ दक्षिण कोरिया के राष्ट्रपति मून जेई भी खास मेहमान बन कर आ रहे हैं। पीएम मोदी सड़क के रास्ते ही दिल्ली से नोएडा आयेंगे। पीएम मोदी शाम 5 बजे से लेकर 5।30 बजे तक नोएडा में रहेंगे।

योगी आदित्यनाथ मुख्यमंत्री रहते हुए इसके पहले भी नोएडा जा चुके हैं। जब पीएम मोदी ने बीते 25 दिसंबर को नोएडा में मेट्रो की मैजेंटा लाइन का उद्घाटन किया था।तब योगी आदित्यनाथ सारे अन्धविश्वास को तोड़कर पहली बार नोएडा पहुंचे थे।

नोएडा के बारे में कहा जाता है कि मुख्यमंत्री रहते हुए जो भी नोएडा गया है वह कभी दोबारा मुख्यमंत्री की कुर्सी पर बैठ नहीं सका है। आखिरी बार  मायावती नोएडा गई थी और वर्ष 2012 में हुए चुनाव में उन्हें हार का मुंह देखना पड़ा था। इसके बाद अखिलेश यादव लगातार पांच साल यूपी के मुख्यमंत्री रहे लेकिन एक बार भी वो नोएडा नहीं गए।

इससे पहले मुलायम सिंह यादव, कल्याण सिंह और राजनाथ सिंह भी उत्तर प्रदेश के सीएम रहे लेकिन कभी नोएडा जाने की हिम्मत नहीं जुटा पाए।

Related Articles