सीएनआर राव का नया मंत्र, ऐसा करने पर चीन व जापान को दे सकते हैं चुनौती

0

देहरादून। यह तो सभी जानते हैं कि भारत में हुनर की कमी नहीं है। अगर दिक्कत किसी बात की है तो ये है कि स्टूडेंट्स को सही माहौल नहीं मिल पा रहा है। इस बात से भारत रत्न से सम्मानित प्रोफेसर सीएनआर राव भी सहमत हैं। राव राजधानी देहरादून आए हुए हैं। देहरादून में पांच दिन के लिए टॉपर्स कॉन्क्लेव का आयोजन किया गया है।

cnr-rao

इस कार्यक्रम में राव को बतौर अतिथि वक्ता बुलाया रहे। इस मौके पर राव ने कहा कि भारत जैसे विशाल देश में हुनर की कमी है, बस कमी है तो अच्छे माहौल की। उन्होंने आगे कहा कि यहां साइंस की स्ट्रीम में बहुत स्कोप है। स्टूडेंट्स चाहे तो किसी भी फील्ड में अपना करियर बना सकते हैं। उन्होंने बताया कि देश में विज्ञान के क्षेत्र में बहुत कुछ करने को है। साथ ही, इस क्षेत्र में भारत शुरू से जापान, दक्षिण कोरिया और चीन जैसे समृद्ध देशों से चुनौती मिलती रही है और आगे भी मिलेगी।

इस दौरान उन्होंने कहा कि अगर हमे भी आगे बढ़ना है तो हमे विज्ञान के क्षेत्र को एक नेशनल प्रोग्राम की तरह विकसित करना होगा। ऐसा करने से हम जापान, दक्षिण कोरिया और चीन से मिलने वाली चुनौतियों का सामना और अच्छे कर पाएंगे। साथ ही, हम उनसे आगे भी बढ़ पाएंगे।

सीएनआर राव भारतीय वैज्ञानिकों में काफी जाना-मन नाम हैं। उन्हें भारत रत्न के साथ ह्यूज मेडल से भी नवाजा जा चुका है। ह्यूज मेडल रॉयल सोसाइटी ऑफ़ लंदन उन वैज्ञानिकों को प्रदान करता है जिन्होंने विज्ञान के क्षेत्र में बहुत उम्दा काम किया हो। ह्यूज मेडल इलेक्ट्रिसिटी और मैग्नेटइस्म के क्षेत्र में काम कर चुके वैज्ञानिकों को दिया जाता है।

loading...
शेयर करें