बिजली कम्पनियो की उदासीनता पर आयोग करे हस्तक्षेप: उपभोक्ता परिषद

बिजली कम्पनियो में लाखो रुपया का एस्टीमेट जमा करने के बाद भी स्टोरों से सामान न मिलने के मुद्दे पर बिजली कंपनियों पर उदासीनता बरतने का आरोप

लखनऊ: उत्तर प्रदेश में लाखों किसानो और उपभोक्ताओ द्वारा बिजली कम्पनियो में लाखो रुपया का एस्टीमेट जमा करने के बाद भी स्टोरों से सामान न मिलने के मुद्दे पर बिजली कंपनियों पर उदासीनता बरतने का आरोप लगाते हुये उपभोक्ता परिषद् ने विद्युत नियामक आयोग से हस्तक्षेप करने की मांग की है।

परिषद के अध्यक्ष अवधेश वर्मा ने शुक्रवार को लोक महत्व याचिका दाखिल कर कहा कि बिजली कम्पनियो की उदासीनता पर आयोग को हस्तक्षेप करना चाहिये। उन्होने कहा कि पैसा जमा करने के 10 दिन बाद उपभोक्ता किसान को सामान स्टोरो से नहीं प्राप्त होता तो ऐसी दशा में बिजली कम्पनियां उपभोक्ताओं को 13 प्रतिशत जमा पैसा पर ब्याज दें।

उन्होने कहा कि लाखो किसानो द्वारा सभी बिजली कम्पनियो में नया संयोजन के लिए आयोग की कॉस्ट डाटा बुक के अनुसार अपना पैसा विभाग के पास छह माह से लेकर सालो पहले जमा किया जा चुका है।  लेकिन स्टोरो में ट्रांसफार्मर कंडक्टर व पोल सहित अन्य सामग्री उपलब्ध न होने के चलते किसान स्टोरो का चक्कर लगा रहे। सभी बिजली कम्पनियो में बड़ी संख्या में पेंडेंसी के चलते लाइन लगी।

यह भी पढ़े: अन्तर्राज्यीय चोर गैंग का हुआ भंडाफोड़, पुलिस ने गिरफ्तार कर 25 बाइकें बरामद की 

यह भी पढ़े: यात्रियों की सुविधा के लिये 28 स्टेशनों पर लगेंगे 50 बहुउद्देशीय स्टॉल

Related Articles

Back to top button