कमेटी के इस फैसले से छिन गया डिस्कस थ्रो एथलीट Vinood kumar का ब्रॉन्ज मेडल

टोक्यो : भारत के डिस्कस थ्रो एथलीट Vinood kumar ने सोमवार को टूर्नामेंट के पैनल की तरफ से डिसेबिलिटी के क्लासिफिकेशन इंस्पेक्शन में “अयोग्य” पाए जाने के बाद पैरालंपिक की पुरूषों की F52 इवेंट का ब्रॉन्ज़ मेडल गंवा दिया।

Vinood kumar की मासपेशियां F52 पैरामीटर से ज़्यादा तंदरुस्त हैं

इस कड़ी में आपकी जानकारी के लिए बता दें बीएसएफ के इकतालीस साल के जवान विनोद कुमार ने रविवार को 19.91 मीटर के सर्वश्रेष्ठ थ्रो से एशियाई रिकार्ड बनाते हुए तीसरा स्थान हासिल किया था। इस के बाद एक खिलाड़ी ने इस फैसले को चुनौती दे दी। इस के बाद ऑर्गनाइजर्स ने एक बयान जारी कर कहा, “पैनल ने पाया कि नेशनल पैरालंपिक कमेटी भारत के एथलीट विनोद कुमार को “स्पोर्ट क्लास” अलॉट नहीं कर पाया और खिलाड़ी को “क्लासिफिकेशन पूरा नहीं किया” कैटेगराइज किया गया है ।” इसी लिए  “एथलीट  F52 डिस्कस थ्रो स्पर्धा के लिए अयोग्य है और स्पर्धा में उसका नतीजा अमान्य है।”

यह भी पढ़ें :MapmyIndia लाने जा रहा है 6,000 करोड़ रुपये की वैल्यूएशन का आईपीओ 

इस कड़ी में आपकी जानकारी के लिए बता दें की F52 इवेंट में वो एथलीट हिस्सा लेते हैं, जिनकी मांसपेशियों की क्षमता कमजोर होती है और उनके मूवमेंट सीमित होते हैं, हाथों में कमी होती है या पैर की लंबाई में अंतर होता है, जिससे खिलाड़ी बैठकर प्रतिस्पर्धा में हिस्सा लेते हैं। लेकिन विनोद में ऐसा कुछ भी नहीं पाया गया।

यह भी पढ़ें : तुर्की से हेलीकाप्टर,UAVs और हथियार खरीदेगा इराक : डिफेन्स मिनिस्ट्री

Related Articles