मुस्लिम बुजुर्ग से मारपीट को दिया गया सांप्रदायिक रंग, ट्विटर के साथ इतने लोगों पर FIR दर्ज

सोशल मीडिया पर एक मुस्लिम बुजुर्ग की पिटाई की वीडियो कुछ दिनों से तेजी वायरल हो रही है।

लखनऊ: सोशल मीडिया पर एक मुस्लिम बुजुर्ग की पिटाई की वीडियो कुछ दिनों से तेजी वायरल हो रही है। यह वीडियो यूपी के गाजियाबाद की है। अब इस मुस्लिम बुजुर्ग की पिटाई मामले में नया मोड़ आ गया है। पुलिस ने मंगलवार के दिन कहा कि यह मामला दो परिवारों की रंजिश से संबंधित है। ऐसे में इस मामले को सांप्रदायिक रंग देने के आरोप में पुलिस ने माइक्रोब्लागिंग साइट ट्विटर व अन्य 8 लोगों के खिलाफ FIR दर्ज कर लिया है। इन सभी पर धार्मिक भावना को भड़काने का आरोप लगाया गया है।

जानकारी के लिए बता दें कि लोनी बॉर्डर पर बुजुर्ग मुस्लिम के साथ अभद्रता का वीडियो वायरल हुआ था, जिसके बाद इसने साप्रदायिक रंग ले लिया और इस बात पर कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने यूपी की कानून व्यवस्था पर सवाल खड़े किए। वहीं योगी आदित्यनाथ ने इसे बदनाम करने का आरोप करार दिया। बता दें कि इस मामले में गाजियबाद पुलिस ने ट्विटर समेत कुल 8 लोगों पर FIR दर्ज की है। इन आरोपियों में कुछ पत्रकार भी शामिल है।

इन सभी लोगों पर बुजुर्ग की पिटाई से संबंधित वीडियो को सांप्रदायिक रंग देकर वायरल कराने का आरोप है। इतना ही नहीं ट्विटर पर भी आरोप लगा है कि पुलिस द्वारा स्पष्टीकरण दिए जाने के बावजूद इस वीडियो को ट्विटर से नहीं हटाया गया। ऐसे में दंगा भड़काने, दो संप्रदायों के बीच वैमनस्य फैलाने और धार्मिर भावनाओं को आहत करने व भड़काने, आपराधिक साजिश से संबंधित धाराओं में पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया है।

पूरा मामला

दरअसल यह मामला कोई संप्रदायिक नही था बल्कि दो परिवारों का आपसी विवाद था। इस वीडियो में एक मुस्लिम बुजुर्ग को कुछ युवक पीटते नजर आ रहे हैं। इस वीडियो को लेकर यह दावा किया जा रहा है कि मुस्लिम होने के कारण बुजुर्ग को पीटा जा रहा है। लेकिन पुलिस ने जांच के बाद यह पाया कि यह दो परिवारों की आपसी रंजिश का मामला है। इस वीडियो को सोशल मीडिया पर वायरल कर इसे सांप्रदायिक रंग देने का प्रयास किया जा रहा है।

यह भी पढ़ें: बसपा के ये 5 MLA सपा में शामिल होने का दिए संकेत, अखिलेश य़ादव से की मुलाकात

Related Articles