कंपनी का दावा: वोडाफोन-आइडिया पर केवल 21533 करोड़ रुपये की एजीआर देनदारी

एजीआर बकाये को लेकर वोडाफोन-आइडिया का कहना है कि उस पर केवल केवल 21533 करोड़ रुपये की देनदारी बनती है। वोडाफोन-आइडिया 3,500 करोड़ रुपए का पेंमेंट कर चुकी है। वोडाफोन-आइडिया ने शुक्रवार को कहा कि उसके समायोजित सकल राजस्व (AGR) की देनदारियां उसके स्व-मूल्यांकन के हिसाब से 21,533 करोड़ रुपये है और बकाया की गणना दूरसंचार विभाग के पास दर्ज करा दी गई है। कंपनी के मुताबिक वित्त वर्ष 2006-07 से लेकर वित्त वर्ष 2018-19 तक 6,854 करोड़ रुपये और फरवरी 2020 तक के ब्याज सहित कुल मिलाकर 21,533 करोड़ रुपये का बकाया है|

बता दें 3 मार्च को एयरटेल ने 1,950 करोड़ रुपये व रिलायंस जियो ने भी 1,053 रुपये का भुगतान किया है, जबकि टाटा ने भी सरकार को एजीआर बकाये का अतिरिक्त 2,000 करोड़ रुपये का भुगतान किया है। वोडाफोन-आइडिया ने लगभग 3,043 करोड़ रुपये का भुगतान किया है।

बता दें दूरसंचार कंपनियों को साविंधिक सकल बकाये (एजीआर) पर अभी राहत मिलती नजर नहीं आ है। पीटीआई सूत्रों की मानें तो कंपनियों को मिलने वाले राहत पैकेज में देरी हो सकती है। सूत्रों का कहना है कि इसकी मंजूरी के लिए डिजिटल कम्यूनिकेशन कमीशन की मंजूरी चाहिए। कोरम नहीं होने के चलते डिजिटल कम्यूनिकेशन कमीशन की बैठक संभव नहीं है।

अभी तक नए सदस्यों की नियुक्ति नहीं हुई है। नियुक्ति के बाद ही बैठक बुलाना संभव होगा। कंपनियों को 16 मार्च तक एजीआर की रकम चुकानी है। सुप्रीम कोर्ट में 17 मार्च को मामले की दोबारा सुनवाई होनी है। सरकार ने बुधवार को कंपनियों को दोबारा नोटिस भेजा, जिसमें कहा गया है कि कंपनियां जल्द से जल्द बकाये का भुगतान करें।

Related Articles