कपिल सिब्बल को कांग्रेस का फरमान, जल्द छोड़ दें बाबरी मस्जिद केस

नई दिल्ली। बाबरी मस्जिद-राम जन्मभूमि विवाद से जुड़े केस में सुन्नी वक्फ बॉर्ड की तरफ से सुनवाई कर रहे कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और वकील कपिल सिब्बल को पार्टी हाई कमान की तरफ से केस छोड़ने को कहा गया है। सूत्रों की माने तो ये फरमान वर्ष 2019 के लोकसभा चुनाव को देखते हुए लिया गया है।

कपिल सिब्बल

सीएनएन न्यूज 18 के अनुसार, कांग्रेस ने कपिल सिब्बल को समझाया है कि इस केस से दूर रहने में ही पार्टी को राजनैतिक फायदा होगा। अगर उन्होंने ऐसा नहीं किया तो चुनाव में पार्टी को काफी नुकसान उठाना पड़ सकता है। अक्सर पीएम मोदी और बीजेपी ने कपिल सिब्बल सहित कांग्रेस पर मंदिर को लेकर उनकी भूमिका पर सवाल उठाये हैं।

प्रधानमंत्री मोदी ने इस केस में सिब्बल की दलीलों को लेकर गुजरात चुनाव प्रचार के दौरान भी काफी आलोचना हुई थी। आपको बता दें कोर्ट में कपिल सिब्बल ने अपनी मांग रखते हुए कहा था कि इस बेहद संवेदनशील बाबरी मस्जिद मामले की सुनवाई 2019 के आम चुनाव के बाद ही की जाए। सिब्बल की गुजारिश पर प्रहार करते हुए पीएम मोदी ने कहा था कि क्या सिब्बल का राम मंदिर को चुनावी राजनीति से जोड़ना सही है।

अपनी दलील में सिब्बल ने कहा था कि कोर्ट के फैसले का ‘बहुत गहरा असर’ होगा, लिहाजा इस मामले की सुनवाई 2019 के चुनावों के बाद की जाए। वहीँ मीडिया रिपोर्ट्स की माने तो पिछली दो सुनवाई में कपिल सिब्बल शामिल नहीं हुए हैं। इस वजह अटकलें तेज हो गईं है कि सिब्बल पर केस छोड़ने का दबाव बनाया जा रहा है।

Related Articles