नए राष्ट्रपति का पहला भाषण कांग्रेस को नहीं आया पसंद, बताया दिल को चुभने वाला

0

नई दिल्ली: देश के 14वें राष्ट्रपति के रूप में शपथ लेने के बाद रामनाथ कोविंद द्वारा दिया गया संबोधन राजनीतिक गलियारों में एक नई हलचल का सबब बन गया है। दरअसल, नवनिर्वाचित राष्ट्रपति का पहला ही संबोधन कांग्रेस को बिलकुल भी रास नहीं आया है। कांग्रेस ने कोविंद द्वारा दिए गए पहले संबोधन में देश के पहले प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू, इंदिरा गांधी और राजीव गांधी का नाम नहीं लेने पर आपत्ति जताई है और इसे दिल में चुभने वाला बताया है।

दरअसल, मंगलवार को कोविंद ने शपथ लेने के बाद राष्ट्रपति के रूप में अपना पहला भाषण दिया। उन्होंने अपने भाषण में देश के कई राष्ट्रपति और प्रधानमंत्रियों का जिक्र किया। हालांकि इसमें देश के पहले प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरु, इंदिरा गांधी व राजीव गांधी का नाम शामिल नहीं था, जो कांग्रेस को बिलकुल भी नागवार गुजरा है।

यह भी पढ़ें: रामनाथ कोविंद ने शपथ लेते समय पीएम मोदी की इस बात को दी तवज्‍जो

इस बात पर आपत्ति जताते हुए कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद ने कहा है कि नवनिर्वाचित राष्ट्रपति का पहला संबोधन दिल को चुभने वाला है। उन्होंने अपने भाषण में देश के पहले प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू, इंदिरा गांधी और राजीव गांधी का नाम नहीं लिया। वहीं आनंद शर्मा ने कहा कि राष्ट्रपिता गांधी के समकक्ष जनसंघ के नेता दीन दयाल उपाध्याय को नए राष्ट्रपति ने अपने सम्बोधन में खड़ा किया, ये ठीक नहीं है। देश की जनता को अच्छा नहीं लगेगा।

संसद के सेंट्रल हॉल में राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने अपने भाषण की शुरुआत में ही अपनी गरीबी, संघर्षों और चुनौतियों का जिक्र किया। उन्होंने कहा कि मैं उत्‍तर प्रदेश के एक छोटे से गांव से हूं। मिट्टी के घर में पला बढ़ा हूं। मेरी यात्रा लंबी रही है, लेकिन ये यात्रा सिर्फ मेरी नहीं रही है, बल्कि मेरे देश और समाज की यही गाधा है।

यह भी पढ़ें: अपने गुजरात के लोगों को बाढ़ से बचाने खुद मोदी चल पड़े, दिल्ली से हुए रवाना

उन्होंने कहा कि मैं देश के सभी नागरिकों को नमन करता हूं और विश्वास जताता हूं कि उनके भरोसे पर खरा उतरुंगा। उन्होंने कहा कि मैं अब राजेंद्र प्रसाद, राधाकृष्णन, एपीजे अब्दुल कलाम और प्रणब दा की विरासत को आगे बढ़ा रहा हूं। अब हमें आजादी में मिले 70 साल पूरे हो रहे हैं, ये सदी भारत की ही सदी होगी।

यह भी पढ़ें: पाकिस्तान : सीएम आवास के पास जबरदस्त बम धमाके से दहला लाहौर, 28 लोगों की मौत

रामनाथ कोविंद ने अपने पूरे संबोधन में देश के पहले राष्ट्रपति राजेंद्र प्रसाद, राधाकृष्णन, एपीजे अब्दुल कलाम और प्रणब मुखर्जी के अलावा महात्मा गांधी और दीनदयाल उपाध्याय का नाम भी लिया।

loading...
शेयर करें