पेपर लीक मामला : कांग्रेस की मांग – जावडेकर और CBSE प्रमुख को बर्खास्त किए जाए  

नई दिल्ली। कांग्रेस ने 10वीं और 12वीं कक्षा के प्रश्नपत्र लीक मामले में मानव संसाधन विकास मंत्री प्रकाश जावडेकर और केंद्रीय माध्यमिक परीक्षा बोर्ड (सीबीएसई) की चेयरपर्सन अनीता करवाल को बर्खास्त किए जाने और मामले की स्वतंत्र जांच कराने की मांग की।

10वीं और 12वीं कक्षा के प्रश्नपत्र लीक

मोदी सरकार के अंतर्गत सीबीएसई के साथ धांधली के कई मामले आए

कांग्रेस नेता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने आरोप लगाया कि एक ‘परीक्षा माफिया’ अंधाधुंध तरीके से अपना काम कर रहा है और जावडेकर पश्चिम बंगाल में राजनीतिक विरोधियों को निशाना बनाने में व्यस्त हैं। सुरजेवाला ने आरोप लगाया, मोदी सरकार के अंतर्गत सीबीएसई के साथ धांधली और भ्रष्टाचार के कई मामले हुए हैं।

सुरजेवाला ने मोदी सरकार पर लगाया आरोप

सुरजेवाला ने करवाल पर परीक्षाओं को सही ढंग से आयोजित नहीं करवाने का आरोप लगाया और कहा कि ‘एक समाचार रिपोर्ट में दावा किया गया है कि उन्हें (करवाल को) परीक्षा होने से एक दिन पहले ही गणित की लीक प्रश्नपत्र की कॉपी मिल चुकी थी। उन्होंने कहा कि कर्मचारी चयन आयोग (एसएससी) और सीबीएसई, दोनों में प्रमुख पदों पर वे अधिकारी चुने गए हैं जो प्रधानमंत्री के गुजरात के मुख्यमंत्री रहते हुए राज्य में उनके चहेते भारतीय प्रशासनिक सेवा (आईएएस) के अधिकारी थे।

क्या सीबीएसई पेपर लीक मामले की स्वतंत्र जांच नहीं होनी चाहिए?

कांग्रेस नेता ने कहा, क्या सीबीएसई पेपर लीक मामले की एक अलग स्वतंत्र जांच नहीं होनी चाहिए? यह जिम्मेदारी तय करने का समय है। मानव संसाधन विकास मंत्री और सीबीएसई चेयरपर्सन को हटाया जाए। सीबीएसई ने बुधवार को कहा था कि वह अर्थशास्त्र और गणित की 10वीं और 12वीं की परीक्षा दोबारा करवाएगी। इस मामले में दिल्ली पुलिस की जांच जारी है।

Related Articles