पूर्व सांसद अनु टंडन ने तीन साल पहले रोकी थी ट्रेन, अब कोर्ट ने सुनाई बड़ी सजा

उन्नाव: लखनऊ की विशेष एमपी-एमएलए कोर्ट ने गुरुवार को कांग्रेस (Congress) की पूर्व सांसद अनु टंडन तथा पार्टी के तीन अन्य पदाधिकारियों को उन्नाव जिले में तीन साल पहले एक आंदोलन के दौरान ट्रेन रोकने के मामले में दोषी करार देते हुए दो-दो साल जेल की सजा सुनाई है। इसके अलावा पच्चीस पच्चीस हजार रुपए की क्षतिपूर्ति भी अदा करने का आदेश दिया है। आपको बता दें कि इन सजा में तत्कालीन कांग्रेस (Congress) जिला अध्यक्ष सूर्य नारायण यादव, शहर अध्यक्ष अमित शुक्ला और युवा कांग्रेस कमेटी के प्रदेश अध्यक्ष अंकित परिहार भी शामिल है।

इन लोगो को सुनाई सजा

12 जून 2017 को न्यायाधीश पीके राय की अदालत ने उन्नाव रेलवे स्टेशन के पास कांग्रेस ने जबरन ट्रेन रोक कर बड़ा आंदोलन किया था। इस मामले में दर्ज कराए गए मुकदमे में उन्नाव से पार्टी की पूर्व सांसद अनु टंडन, तत्कालीन जिला अध्यक्ष सूर्य नारायण यादव, नगर अध्यक्ष अमित शुक्ला और युवा कांग्रेस के तत्कालीन अध्यक्ष अंकित परिहार को दो-दो साल कैद और 25-25 हजार रुपये जुर्माने की सजा सुनाई गई है।

ये भी पढ़ें : जानिए कितना प्योर है कर्नाटक Gold का taste

ट्रेन रोक कर इंजन पर किया आंदोलन

एफआईआर के मुताबिक उन्नाव स्टेशन के पूर्वी किनारे के ओवर ब्रिज के पास कांग्रेसी कार्यकर्ताओं ने गाड़ी संख्या 18191 के इंजन पर खड़े होकर उसे रोक लिया और वहीं कांग्रेस की इस भीड़ को रेलवे लाइन पर देखते ही ट्रेन इंजन के ड्राइवर ने तुरंत ब्रेक मारकर रोक दिया था। इंजन के रुकते ही तमाम प्रदर्शनकारी दौड़कर इंजन पर चढ़ गए और नारेबाजी करते हुए आंदोलन करने लगे। रेलवे के लोगों ने समझा-बुझाकर इन प्रदर्शनकारियों को इंजन से उतारा था। इस पूरे घटनाक्रम के चलते हैं ट्रेन 12 मिनट लेट हो गई थी।

ये भी पढ़ें : क्यों Britain जानबूझ कर माल्या के डिपोर्ट को कर रहा है delay?

 

 

Related Articles