आईसीयू में है कांग्रेस, कुछ कार्यकर्ताओं पर आती है दयाः पीएम मोदी

0

नई दिल्लीः रफेल डील और सरकार द्वारा विजय माल्या को भगाने में मदद के कांग्रेस के आरोपों पर पलटवार करते हुए  पीएम मोदी ने कहा कि कांग्रेस आज आईसीयू में है और उसे अपने अस्तित्व के लिए विभिन्न दलों के ‘सपोर्ट सिस्टम’ की आवश्यकता है।

बीजेपी कार्यकर्ताओं के साथ नरेंद्र मोदी एप के माध्यम से संवाद करते हुए पीएम ने कहा, “आज महागठबंधन गांठों का बंधन नहीं है यह अपनी कमजोरियों को छिपाने के लिए कुछ अवसरवादी लोगों का गठजोड़ है।” उन्होंने कहा कि जब कोई आईसीयू में होता है तब उसे सपोर्ट सिस्टम की जरूरत होती है ताकि उसे बचाया जा सके। ऐसा ही प्रयास कांग्रेस कर रही है।

कांग्रेस आज कुछ दलों का सहयोग जुटाने में क्यों लगी हुई है जबकि मध्यप्रदेश के अपने महाधिवेशन में उसने कहा था कि वह किसी के साथ समझौता नहीं करेगी।

महागठबंधन की अवधारणा पर निशाना साधते हुए उन्होंने कहा, “वे दलों को जोड़ रहें है और हम सवा सौ करोड़ दिलों को जोड़ रहे हैं। इस गठजोड़ में नीति अस्पष्ट है, नेतृत्व में भ्रम है और नीयत भ्रष्ट है।” उन्होंने कहा कि भाजपा से डर के कारण वे महागठबंधन के खेल में लगे हैं जिनका एकमात्र नारा ‘मोदी हटाओ’ है और भाजपा का एक ही संकल्प है ‘देश को आगे बढ़ाओ।’

उन्होंने कहा, “वे नामदार हैं, हम कामदार हैं। उनका मकसद एक परिवार का कल्याण है, हमारा लक्ष्य राष्ट्र निर्माण है।”

मोदी ने कहा कि भाजपा विरोधी की कमजोरी पर नहीं बल्कि सवा सौ करोड़ लोगों की ताकत पर चलती है। बीजेपी के बूथ स्तर के कार्यकर्ताओं से बात करने के दौरान कांग्रेस पर हमला बोलते हुए पीएम ने कहा कि पिछले चार वर्षों में कांग्रेस और उसके सहयोगियों की हकीकत सबसे सामने आ गई है। पहले जनता ने गुड गवर्नेंस, भ्रष्टाचार और फैसले लेने की अक्षमता के कारण उन्हें सत्ता से बाहर किया था। अब वे विपक्ष की भूमिका निभाने में भी फेल हो गए हैं।

ये भी पढ़ें…….राहुल गांधी ने अरुण जेटली पर लगाया आरोप, कहा- माल्या को भागने….

कहा, कांग्रेस के कुछ कार्यकर्ताओं पर दया आती है
कांग्रेस पर जोरदार हमला बोलते हुए उन्होंने कहा, ‘पदभार व्यवस्था है पर कार्यभार जिम्मेदारी है। जब तक प्राण है कार्य के प्रति समर्पण बना रहेगा। दूसरे दलों का हाल देखिए। कांग्रेस के कई कार्यकर्ताओं पर दया आती है, उनका संघर्ष और सामर्थ्य एक ही परिवार के काम आ रहा है। अगर एक परिवार के काम नहीं आया तो बाहर कर दिए जाते हैं।’

loading...
शेयर करें