कृषि बिल के खिलाफ SC पहुंची कांग्रेस, वापस लेने की मांग तेज

New Delhi: मोदी सरकार विपक्ष के हंगामे और किसानों के विरोध को दरकिनार करते हुए कृषि बिल को संसद से पास करा लिया। संसद से पास होने के बाद कृषि बिल पर कल राष्ट्रपति ने भी अपनी हस्ताछर कर दी। राष्ट्रपति के हस्ताछर के बाद अब यह कानून के शक्ल में समूचे देश में लागू हो गया है, लेकिन किसान इस बिल को लेकर अब भी सड़को पर है। वहीँ मुख्य विपक्षी दल कांग्रेस इस बिल के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट पहुंच गया है।

झारखंड कांग्रेस विधायक दीपिका सिंह कृषि बिल के खिलाफ ट्रेक्टर से विधानसभा जाती हुई
झारखंड कांग्रेस विधायक दीपिका सिंह कृषि बिल के खिलाफ ट्रेक्टर से विधानसभा जाती हुई

केरल से कांग्रेस सांसद टीएन प्रतापन ने कृषि बिल को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी है। सांसद टीएन प्रतापन ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर करके इसे वापस लेने की मांग की है। टीएन प्रतापन ने इस बिल को धारा 32 की धारा 2, 3, 4, 5, 6, 7, 13, 14, 18 और 19 की संवैधानिकता के आधार पर चुनौती दी है। उन्होंने बताया कि मूल्य आश्वासन और फार्म सेवा अधिनियम, 2020 संविधान के अनुच्छेद 14, 15 और 21 का उलंघन करके लागू किया गया है।

कांग्रेस सांसद टीएन प्रतापन की तरफ से दायर याचिक की वकालत वकील आशीष जॉर्ज,जेम्स पी थॉमस,और सीआर रेखेश शर्मा करेंगे। बता दें कि कृषि बिल को लेकर किसानों का व्रिदोह प्रदर्शन लगातार जारी है।  किसानों ने सरकार तक अपनी बात पहुंचने के लिए 25 सितंबर को भारत बंद भी किया था। लेकिन सरकार इसे नजरअंदाज करते हुए इस बिल को ऐतिहासिक बताते हुए संसद और राष्ट्रपति से मंजूरी करा ली।

इसे भी पढ़े : इन सात वजहों से कांग्रेस ने मानसून सत्र में राज्यसभा से किया वहिष्कार

Related Articles