लोकसभा में कांग्रेस का हंगामा, भीड़ द्वारा हत्या के मामले पर मोदी को घेरा

0

नई दिल्ली। संसद के मानसून सत्र में हंगामा जारी है। विपक्ष लगातार किसी ने किसी मुद्दे पर सरकार को घेर रहा है। सत्र के दौरान मॉब लिंचिंग के मुद्दे पर कांग्रेस ने लोकसभा में हंगामा किया। कांग्रेस नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने भीड़ द्वारा हत्या के मामले में पीएम मोदी पर जमकर हमला किया। बता दें इससे पहले कई विपक्षी नेता मॉब लिंचिंग को लेकर सरकार पर निशाना साधते रहे हैं।

यह भी पढ़ें : भीड़ द्वारा पीट पीटकर हत्या करने वालों पर नहीं बनेगा कोई कानून : हंसराज गंगाराम

मानसून सत्र

संसद में खड़गे ने कहा कि भीड़ के हमले से हत्या की मामले लगातार बढ़ रहे हैं, पीएम ने तीन बार इस मुद्दे पर कहा है। लेकिन कोई एक्शन नहीं हुआ है जबतक एक्शन नहीं होगा, ये घटनाएं नहीं रुकेंगी। इस दौरान लोकसभा में कांग्रेस अध्यक्ष और उपाध्यक्ष सोनिया गाधी और राहुल गांधी भी मौजूद थे।

कांग्रेस ने संसद में 40 पन्नों का डोजियर पेश किया था

आपको बता दें कि इससे पहले पिछले सप्ताह भी कांग्रेस समेत विपक्ष ने इस मुद्दे पर संसद में बहस की थी। कांग्रेस ने संसद में 40 पन्नों का डोजियर पेश किया था। संसद में कांग्रेस के द्वारा 40 पन्नों के दिए गए डोजियर पर बीजेपी ने पलटवार किया था। संबित पात्रा ने प्रेस कांफ्रेंस कर कहा कि डोजियर में अलगाववादियों का नाम नहीं है, कांग्रेस बस संसद को ठप करना चाहती है। इसमें अयूब पंडित के मुद्दे पर भी कांग्रेस ने इस डोजियर में कोई जिक्र नहीं किया है।

यह भी पढ़ें : हत्यारी भीड़ के खिलाफ स्वरा ने उठाई आवाज, पीएम मोदी के सामने रखी अपनी मांगें

मानसून सत्र

ओवैसी ने भी भीड़ की हिंसा को लेकर उठाई थी आवाज़

हैदराबाद से सांसद और ऑल इंडिया मजलिस ए इत्तेहादुल मुस्लिमीन (एआईएमआईएम) के अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी भीड़ द्वारा की जा रही हिंसा और पीट पीट कर हत्या ‘मॉब लिंचिंग’ किये जाने की घटनाओं के खिलाफ संसद में एक निजी विधेयक पेश करेन की बात कही थी। औवैसी ने कहा था कि इस विधेयक को वे जल्द ही लोकसभा में पेश करेंगे और इसके लिए लोकसभा सचिवालय को नोटिस भी दे दिया था। इस विधेयक में भीड़ द्वारा की जाने वाली हिंसा की रोकथाम और उसके लिए दंड दोनों का प्रावधान है।

यह भी पढ़ें : पूरे मुल्क में फैलाया जा रहा इस्लाम का डर, हो रही मुसलमानों की हत्या

मानसून सत्र

मॉब लिंचिंग के मुद्दे पर विपक्ष हो गया एक

दिग्विजय सिंह ने कहा कि सरकार किसानों की आत्महत्या पर मौन है। शरद यादव ने भी सरकार से इस मुद्दे पर बहस की मांग की। इसके बाद राज्यसभा में भीड़ द्वारा हत्या के मुद्दे पर बहस शुरू हो गई, जिसकी शुरुआत विपक्ष के नेता गुलाम नबी आजाद ने की।

loading...
शेयर करें