किसानों के मामले को विधानसभा में प्रमुखता से उठाएगी कांग्रेस

नैनीताल: किसान नए कानून और किसानों के मामले में उत्तराखंड कांग्रेस भी पीछे नहीं रहने वाली है। पार्टी ने निर्णय लिया है कि वह किसानों के मामले को विधानसभा में प्रमुखता से उठाएगी। इसके साथ ही पार्टी बेरोजगारी के मामले को भी सदन के पटल पर रखेगी।

विधानसभा में उठेगा कांग्रेस का मुद्दा

कांग्रेस पार्टी की ओर से यह निर्णय बुधवार को आयोजित विधायकों की वर्चुअल बैठक में लिया गया है। प्रतिपक्ष की नेता इंदिरा हृदयेश की ओर से यह जानकारी दी गई है। उनकी ओर से जारी विज्ञप्ति में कहा गया है कि बैठक में विधायकों से सुझाव मांगे गये थे और सर्वसम्मति से निर्णय लिया गया है कि किसान कानून के विरोध में देश के किसान सड़कों पर बैठे हैं और उनकी बात को आगामी विधानसभा सत्र में प्रमुखता से उठाया जाए।

विज्ञप्ति में यह भी संकेत दिये गये हैं कि पार्टी प्रदेश सरकार को भ्रष्टाचार के मुद्दे पर भी घेरेगी। हृदयेश ने कहा प्रदेश में भ्रष्टाचार के अनेक उदाहरण हैं। जिसमें सरकार सीधे-सीधे लिप्त है। मुख्यमंत्री के स्टिंग से जुड़े मामले और श्रम विभाग के करोड़ों रुपये के घोटाले के प्रकरण लगातार सामने आ रहे हैं। विकास प्राधिकरणों में व्याप्त भ्रष्टाचार से भी प्रदेश की जनता त्रस्त है। सरकार लगातार इन मुद्दों से बचती आ रही है।

सदन में जन सरोकारों से जुड़े इन मुद्दों को उठाया जाना अत्यंत आवश्यक है। पार्टी ने यह भी निर्णय लिया है कि सरकार पर सदन का समय बढाये जाने के लिए भी दबाव बनाया जाएगा। प्रदेश की जनता सरकार की अकर्मण्यता से बहुत परेशान है। भारी संख्या में लोग सेवा से निकाल दिए गए हैं और अन्य लोगों को वेतन नहीं मिल पा रहा है। यही नहीं सरकार नई नौकरियों का सृजन करने में भी विफल साबित हुई है। आगे कहा गया है कि सरकार को इन सभी प्रमुख मुद्दों पर जवाब देने के लिए बाध्य किया जाएगा।

यह भी पढ़ें: केंद्र सरकार ने किसानों को दिया तोहफा, इतने करोड़ रुपए की सब्सिडी देने का ऐलान

Related Articles

Back to top button