सोनिया गांधी के जन्मदिन पर कांग्रेसियों ने मनाया किसान सम्मान दिवस

यूपी के झांसी में कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी का 74वां जन्मदिन कांग्रेसियों ने बुधवार को किसान सम्मान दिवस के रूप में मनाया गया। कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष अरविंद वशिष्ठ की अध्यक्षता में इस अवसर पर किसान चौपाल लगाकर किसानों को सर्दी से बचने के लिए कंबल बांटे गए।

झांसी: यूपी के झांसी में कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी का 74वां जन्मदिन कांग्रेसियों ने बुधवार को किसान सम्मान दिवस के रूप में मनाया गया। कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष अरविंद वशिष्ठ की अध्यक्षता में इस अवसर पर किसान चौपाल लगाकर किसानों को सर्दी से बचने के लिए कंबल बांटे गए।

गांधीवादी नेता राजेंद्र रेजा ने कहा कि हम आज अपने किसान परिवारों के बीच उनके सुख-दुख में सहयोग बांटने आए और हम और हमारा शीर्ष नेतृत्व हमेशा किसानों के साथ इसी प्रकार हर कदम पर संघर्षरत रहेगा। वशिष्ठ ने कहा कि किसानों के भारत में हो रहे उत्पीड़न को देखते हुए हमारी राष्ट्रीय अध्यक्ष ने उनका जन्मदिन नहीं मनाने का निर्देश कांग्रेस परिवार को दिया है।

हम उनके जन्मदिन पर किसानों के बीच आए हैं

हम उनके जन्मदिन पर किसानों के बीच आए हैं और किसानों के सुख दुख में उनके साथ खड़े होकर उनके संघर्ष में साथ देंगे। हमारी नेता सोनिया गांधी के नेतृत्व में कांग्रेस सड़क से लेकर संसद तक की लड़ाई किसान के हक में लड़ेगी। इस अवसर पर पूर्व केंद्रीय मंत्री प्रदीप जैन आदित्य के मुख्य आतिथ्य एवं पिछड़ा वर्ग कांग्रेस के प्रदेश उपाध्यक्ष मनीराम कुशवाहा की अध्यक्षता तथा वरिष्ठ कांग्रेसी नेता देवी सिंह कुशवाहा के संयोजन में खेत पर जाकर किसानों का सम्मान किया गया।

सोनिया जनहित की राजनीति करने वाली व्यक्तित्व हैं

पूर्व केंद्रीय मंत्री ने कहा कि सोनिया गांधी भारतीय राजनीति में त्याग और जनहित की राजनीति करने वाली व्यक्तित्व हैं, जिनके प्रयासों से देश के गरीब, मजदूर, युवाओं, किसानों एवं महिलाओं के उत्थान के लिए ऐतिहासिक कार्य जैसे स्वास्थ्य, शिक्षा का अधिकार, सूचना का अधिकार, खाद्य सुरक्षा कानून, मनरेगा आदि हुए जिनका लाभ समाज के सभी वर्गों को मिल रहा है।

ये भी पढ़ें : फाइजर की कोरोना वैक्सीन लगवाने के बाद ब्रिटेन में दो लोगों को एलर्जी

सोनिया के प्रयास से केंद्र सरकार द्वारा किसानों के कर्ज माफ किए गए

सोनिया के प्रयास से केंद्र सरकार द्वारा किसानों के कर्ज माफ किए गए थे और कृषि के सुधार तथा विकास के लिए महत्वपूर्ण कार्य हुए। राहुल गांधी ने आर्थिक और सामाजिक रूप से पिछड़े बुंदेलखंड के किसानों के दर्द को समझते हुए बुंदेलखंड विशेष पैकेज के तहत यहां के किसानों को कृषि से संबंधित कार्यों के लिए दिया था। इसके बाद किसानों को बहुत बड़ी राहत मिली और बुंदेलखंड में 56 मंडियों का निर्माण हुआ।

ये भी पढ़ें : मंगलेश डबराल के निधन से भारतीय साहित्य को पहुंची बड़ी क्षति: साहित्य अकादमी

सरकार निरंतर किसानों को कुचलने का कर रही कार्य

दूसरी ओर वर्तमान सरकार निरंतर किसानों को कुचलने का कार्य कर रही है और ऐसे काले कानून को लाकर मंडी व्यवस्था को ध्वस्त कर देगी और कृषि क्षेत्र में पूंजी पतियों का अधिपत्य हो जाएगा। इस अवसर पर पिछड़ा वर्ग कांग्रेस के प्रदेश उपाध्यक्ष मनीराम कुशवाहा ने कहा कि स्वर्गीय राजीव गांधी की हत्या के बाद सोनिया गांधी ने विषम परिस्थितियों में कांग्रेस पार्टी की कमान संभाली और पार्टी निरंतर आगे बढ़ी।

 

Related Articles

Back to top button