गोरखपुर में गूंजी कांग्रेसियों की हुंकार

कांग्रेस ने निकाली सद्भाव यात्रा

गोरखपुर। लोकसभा चुनावों के बाद शहर ने कांग्रेसियों की हुंकार को महसूस किया। मौका था महानगर में निकली सदभाव पदयात्रा का। इसकी अगुआई प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष निर्मल खत्री, कांग्रेस के वरिष्ठ नेता मधुसूदन मिस्त्री और राष्ट्रीय अनुसूचित जाति एवं जनजाति आयोग के अध्यक्ष व वरिष्ठ कांग्रेस नेता पीएल पुनिया ने की। पदयात्रा के दौरान केंद्र और प्रदेश सरकार के विरोध में जमकर नारेबाजी हुई।

इससे पहले हुई एक सभा में कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं ने केंद्र सरकार पर देश में सदभाव बिगाड़ने का आरोप लगाया। प्रदेश सरकार बरसते हुए कांग्रेस के नेताओं ने कहा कि यूपी में कानून-व्यवस्था जैसी कोई चीज नहीं रह गई है। इस अवसर पर कांग्रेस जिलाध्यक्ष डा. सैय्यद जमाल, पूर्व सांसद अखिलेश सिंह, कमल किशोर, विधायक अजय कुमार लल्लू, कांग्रेस नेता डा. वजाहत करीम, डा. सुरहिता करीम, अनवर हुसैन समेत दर्जनों वरिष्ठ नेतागण मौजूद रहे।

ताकत दिखाने की होड़

कांग्रेस के तीन-तीन वरिष्ठ नेताओं की उपस्थिति का फायदा लेने में छुटभैये नेताओं ने कोई कमी नहीं छोड़ी। छुटभैयों में इस चीज को लेकर खासा होड़ देखी गई। विधानसभा चुनाव में टिकट की मजबूत दावेदारी पेश करने के लिए छुटभैया नेता दर्जनों गाड़ियों के काफिले के साथ पदयात्रा स्थल तक पहुंचे। उन्होंने पूरा शक्ति प्रदर्शन किया।

ढाई दशक से नहीं मिली कुर्सी

गोरखपुर शहर में कांग्रेस की दाल पिछले ढाई दशक से कभी नहीं गल पाई। यहां लगातार भारतीय जनता पार्टी का परचम फहराता रहा है। ऐसे में कांग्रेस का शहरी संगठन भी बेहद कमजोर है। पूरे जनपद से जुटे कांग्रेसियों ने पदयात्रा के बहाने ही पहली बार अपनी ताकत का एहसास कराने की पूरी कोशिश की।

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button