सिपाही भर्ती परीक्षा:आगरा से एसटीएफ ने पकडे तीन मुन्ना भाई, जुड़े हैं कई गैंग के तार

0

आगरा में एसटीएफ ने नकल कराने वाले गैंग के तीन सदस्यों को पकड़ा है। इनके तार मध्य प्रदेश के व्यापम घोटाले से जुड़े हुए हैं। पुलिस सूत्रों का कहना है कि व्यापम घोटाले के जेल से बाहर चल रहे कई और अभ्यर्थी पकड़े जा सकते हैं।  पकड़े गए आरोपियों में शिव कुमार, भुवनेश और सत्यम शामिल हैं। इनसे पूछताछ में बड़े खुलासे हुए हैं। पता चला है कि यूपी पुलिस की सिपाही भर्ती परीक्षा में अभ्यर्थियों की जगह व्यापम घोटाले के आरोपी भी परीक्षा देने के लिए पहुंचे।

सत्यम इनमें शामिल है। उसके मोबाइल की कॉल डिटेल निकाली जा रही है। सत्यम कटियार कानपुर देहात के डेरापुर के अमोली कुर्मियान का रहने वाला है। इस गिरोह का सरगना शिव कुमार है। यह मथुरा का रहने वाला है।

मध्य प्रदेश में दर्ज है केस

सत्यम खिलाफ मध्य प्रदेश के जबलपुर जिले के थाना रांझी में धोखाधड़ी और जालसाजी का केस दर्ज है। वो इसमें फरार चल रहा था। उसने बताया है कि मध्य प्रदेश के चर्चित घोटाले व्यापम में भी उसने एक अभ्यर्थी की जगह परीक्षा दी। इसके बाद उसने इसी को धंधा बना लिया था। सत्य यूपी, हरियाणा में सक्रिय उन गिरोह से जुड़ गया जो परीक्षा में पैसा लेकर अभ्यर्थियों की जगह दूसरे लोगों (सॉल्वर) को भेजते हैं। उसने अभी तक अपने उन साथियों के नाम नहीं बताए हैं जो व्यापम में शामिल रहे।

इसके बाद उसी की तरह दूसरों की जगह परीक्षा देने का पैसा ले रहे हैं। एसटीएफ उससे पूछताछ कर रही है। उम्मीद है कि उसके और साथियों के नाम उसके मोबाइल की कॉल डिटेल से निकल जाएंगे।इस गिरोह का सरगना शिव कुमार है। वो मथुरा के गोवर्धन के बछगांव का रहने वाला है। दिल्ली के मुखर्जी नगर के कोचिंग सेंटर से सिविल परीक्षा की तैयारी कर रहा है। वहीं पर उसने नकल कराने वाला गिरोह तैयार कर लिया। इसमें उन युवकों को शामिल किया जो उसी की तरह सिविल परीक्षा की तैयारी कर रहे हैं। इन्हें रेलवे, पुलिस की भर्ती परीक्षा में दूसरे अभ्यर्थियों की जगह भेजने लगा। इसके बदले प्रति अभ्यर्थी आठ लाख रुपये तक ले रहा था।

loading...
शेयर करें