मुख्यमंत्री लघु सिंचाई योजना के अन्तर्गत 70838 उथले नलकूप का निर्माण

लखनऊ: उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा किसानों को बेहतर सिंचाई सुविधाएं उपलब्ध कराकर कृषि उत्पादन बढ़ाये जाने के लिए कटिबद्ध है। इसी दिशा में कार्य करते हुए राज्य सरकार पठारी क्षेत्रों तथा अधिक गहराई वाले इलाकों में बोरिंग कराकर किसानों को सिंचाई के लिए पर्याप्त पानी उपलब्ध करा रही है।

इसके तहत उथले नलकूप/निःशुल्क बोरिंग योजनान्तर्गत लघु/सीमान्त श्रेणी के कृषकों को 110 मि0मी0 व्यास के पी0वी0सी0 पाइप से 30 मी0 गहराई तक के उथले नलकूपों का निर्माण कराकर सिंचाई सुविधा उपलब्ध करायी जा रही है। वित्तीय वर्ष 2020-21 में प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना के घटक ’’हर खेत को पानी’’ के अन्तर्गत कुल 11866 एवं मुख्यमंत्री लघु सिंचाई योजना के अन्तर्गत कुल 70838 उथले नलकूप का निर्माण किया गया है।

लघु सिंचाई विभाग से उपलब्ध जानकारी के अनुसार गहरी बोरिंग योजनान्तर्गत सभी श्रेणी के कृषक पात्र हैं। उक्त बोरिंग में 61 से 90 मी0 गहराई की बोरिंग की जाती है। बोरिंग क्रियाशील होने के उपरान्त प्रति बोरिंग लगभग 12 हेक्टेयर खेत सिचिंत होता है। वित्तीय वर्ष 2020-21 में प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना के घटक ’’हर खेत को पानी’’ के अन्तर्गत कुल 32 एवं मुख्यमंत्री लघु सिंचाई योजना के अन्तर्गत कुल 486 गहरी बोरिंग पूर्ण करा ली गयी है।

Related Articles