कोरोना: लखनऊ, कानपुर, वाराणसी पर सरकार की विशेष नजर, CM ने कहा, ‘कोई भी ढिलाई न बरतें’

कोरोना: लखनऊ, कानपुर, वाराणसी पर सरकार की विशेष नजर, CM के कहा, 'कोई भी ढिलाई न बरतें'

लखनऊ: यूपी में कोरोना संक्रमण के प्रसार की रफ्तार पर अंकुश लगने के बावजूद सरकार कोई कोताही बरतने को तैयार नहीं है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कोरोना को लेकर लखनऊ, कानपुर और वाराणसी में विशेष नजर रखने के निर्देश देते हुये कहा कि कोविड-19 संक्रमण से बचाव के लिए सावधानी और सतर्कता अत्यन्त आवश्यक है, इसलिये इसमें कोई भी ढिलाई न बरती जाए।

अनलॉक व्यवस्था की समीक्षा करते हुये CM योगी ने गुरूवार को कहा कि राज्य में COVID19 संक्रमण की जांच की व्यवस्था लगातार सुदृढ़ की जा रही है, जिसके चलते आज तक प्रदेश में 1.25 करोड़ COVID19 टेस्ट किए जा चुके हैं। पिछली 30 सितम्बर तक यह संख्या एक करोड़ थी। इस प्रकार 15 दिन में कोविड-19 टेस्ट की संख्या में 25 लाख की बढ़ोत्तरी हुई है।

करोना की निगरानी के लिए सर्विलांस सस्टिम को और मजबूत किया जाए

उन्होंने कहा कि कोरोना की निगरानी के लिए सर्विलांस सस्टिम को और मजबूत किया जाए। उन्होंने आईसीयू बेड्स की संख्या निरन्तर बढ़ाने के निर्देश दिए। उन्होंने सभी अस्पतालों में दवाई व मेडिकल से जुड़ी अन्य आवश्यक सामग्री की उपलब्धता सरप्लस में सुनिश्चित करने के निर्देश दिए।

मुख्यमंत्री ने ‘प्रधानमंत्री स्वनिधि योजना’ का उल्लेख करते हुए कहा कि इसके तहत अधिक से अधिक लोगों को लाभान्वित किया जाए। उन्होंने नगर विकास विभाग को स्टेट लेवल बैंकिंग कमेटी (एसएलबीसी) आहूत करने के निर्देश दिए, ताकि लोगों को स्वरोजगार के लिए ऋण इत्यादि की सुविधा आसानी से उपलब्ध कराई जा सके।

CM योगी ने कहा कि महिला सुरक्षा के दृष्टिगत हर थाने में एक महिला हेल्प डेस्क स्थापित की जाए। राज्य सरकार द्वारा लागू किया जा रहा ‘मिशन शक्ति’ अभियान शारदीय नवरात्रि से लेकर बासंतिक नवरात्रि तक निरंतर चलाया जाएगा। महिला एवं बालिका सुरक्षा के दृष्टिगत यह राज्य सरकार का एक विशेष अभियान है, जिसमें पुलिस सहित अन्य विभागों का सहयोग अपेक्षित है।

सभी जिलाधिकारी अभियान को प्रभावी ढंग से लागू करें

राज्य सरकार महिलाओं व बालिकाओं की सुरक्षा व सम्मान के लिए प्रतिबद्ध है। नवरात्रि के दौरान इसके प्रभावी क्रियान्वयन पर विशेष ध्यान दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि इस अभियान के तहत महिलाओं व बालिकाओं को आत्मरक्षा के तरीकों के प्रति सजग और जागरूक किया जाए। उन्होंने निर्देश दिए कि सभी जिलाधिकारी अपने-अपने जिलों में इस अभियान को प्रभावी ढंग से लागू करें और इसकी माॅनिटरिंग भी करें और नोडल अधिकारी कार्यों की समीक्षा करें।

मुख्यमंत्री ने कहा कि धान किसानों की सुविधा के लिए धान क्रय केन्द्र पूरी सक्रियता से कार्य करें। इन केन्द्रों में धान की नमी को नापने वाले यंत्र की व्यवस्था की जाए, ताकि किसानों को धान विक्रय करने में कोई दिक्कत न हो।

ये भी पढ़ें : मिर्ज़ापुर के गुड्डू भैया का जन्मदिन, ऐसे मिली एक्टर अली फज़ल को इंडस्ट्री में पहचान

Related Articles