Corona मरीज ने पिता को फोन पर बताया SGPGI में नही मिल रहा इलाज, चौथी मंजिल से लगाई छलांग

लखनऊ: कोरोना (Corona) का इलाज तो हो सकता है लेकिन डर का इलाज बहुत मुश्किल होता है कई लोग तो डर में ही अपनी जान गवा देते है। ताजा मामला उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ का है। यहां के एसजीपीजीआइ के ट्रामा सेंटर कोविड अस्पताल में भर्ती कोरोना संक्रमित (Corona) मरीज कमल किशोर (35) ने गुरुवार को चौथे मंजिल से कूदकर जान दे दी।

बीते 18 अप्रैल को कमल किशोर की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आयी थी। इसके बाद कमल का इलाज पीजीआई के कोरोना अस्पताल में चल रहा था। मृतक कमल के पिता का आरोप है कि बेटे ने गुरुवार दोपहर फोन किया। इसके बाद बेटे ने बताया कि अस्पताल में ठीक से इलाज नही मिल रहा है। बस इस शिकायत को बताने के बाद वह कूदकर आत्महत्या कर लिया।

ये भी पढ़ें: जानिए क्यों Dogs के शमशान में होगा इंसान का आखरी संस्कार

पूरा मामला

जानकारी के मुताबिक, सीतापुर बिसवां मानपुर का रहने वाला कमल किशोर किसान था। कमल के पिता मनोहर लाल का कहना है कि उसके बेटे की किडनी खराब थीं। पीजीआई में उसका तीन साल से इलाज और डायलिसिस चल रही थी। बीते 18 अप्रैल को उसकी कोरोना रिपोर्ट पाजिटिव आयी थी। इसके बाद बेटे को पीजीआई के ट्रामा सेंटर कोविड अस्पताल में भर्ती कराया गया और उसका इलाज चल रहा था।

ये भी पढ़ें: कोरोना से जंग लड़ने को Yogi सरकार तैयार, तत्काल 33 हजार बेड बढ़ाने का दिया निर्देश

बेटे ने सुनाई अस्पताल की दास्तान

मनोहर लाल ने बताया कि जब वह घर पर थे तब गुरुवार करीब 1ः30 बजे पीजीआई से बेटे ने फोन किया और कहा कि अस्पताल में सही इलाज नहीं मिल रहा है। मेरा पेट फूल रहा है और बहुत परेशान हूं। इसके बाद उसने फोन काट दिया। फोन मिलाता रहा पर कोई रिसीव नहीं हुआ। बस फिर किया इसके कुछ देर बाद अस्पताल से फोन आया और बताया कि बेटे की तबियत ज्यादा बिगड़ गई है। अस्पताल पहुंचे तो पता चला कि उसकी मौत हो गई है। डाक्टरों ने बताया कि करीब 12 दोपहर बेटे ने चौथे मंजिल से छलांग लगा दी।

 

Related Articles