फरवरी तक आ सकती है कोरोना की तीसरी लहर, शोधकर्ताओं ने किया आगाह

IIT के शोधकर्ताओं ने भी इस संबंध में एक अध्‍ययन किया है

दुनिया भर में कोरोना वायरस संक्रमण के मामलों में लगातार तेजी आ रही है. ब्रिटेन जैसे कुछ देशों में तो कोरोना के नए केस रिकॉर्ड तोड़ रहे हैं. इस बीच भारत में भी कोरोना वायरस के नए वेरिएंट ओमिक्रॉन के नए मामलों में इजाफा हो रहा है, जिससे चिंता की स्थित बनी हुई है. कानपुर IIT के शोधकर्ताओं ने भी इस संबंध में एक अध्‍ययन किया है. इसमें उन्‍होंने दावा किया है कि ओमिक्रॉन वेरिएंट के कारण देश में कोरोना वायरस की तीसरी लहर आ सकती है. उनका यह भी दावा है कि 3 फरवरी तक देश में यह चरम पर हो सकती है.

फरवरी में चरम पर होगी कोरोना की तीसरी लहर

आईआईटी के शोधकर्ताओं की टीम ने भारत में कोविड की तीसरी लहर के अनुमान की गणना गॉजियन मिक्‍सर मॉडल नामक स्‍टैटिसटिकल टूल के जरिये की है. ऑनलाइन प्रीप्रिंट सर्वर MedRxiv में प्रकाशित इस रिपोर्ट में कहा गया है कि दुनिया भर में कोरोना के जारी ट्रेंड को देखते हुए इस मॉडल के जरिये भारत में दिसंबर के मध्‍य से कोरोना की तीसरी लहर शुरू होने की आशंका जताई गई है. साथ ही फरवरी की शुरुआत में यह चरम पर हो सकती है.

भारत में संभावित तीसरी लहर का अनुमान

शोधकर्ताओं ने भारत में कोरोना वायरस की पहली और दूसरी लहर के डेटा और अन्‍य देशों में मौजूदा ओमिक्रॉन के मामलों की स्थिति की गणना करके भारत में संभावित तीसरी लहर का अनुमान लगाया है. इससे पहले दिसंबर की शुरुआत में भी आईआईटी वैज्ञानिक की ओर से फरवरी में कोरोना की तीसरी लहर आने का अनुमान लगाया गया था.

 

यह भी पढ़ें- लो आ गया ओमिक्रॉन का एक और विलेन ‘Delmicron’, कई देशों में मचा रहा है तबाही, विभाग अलर्ट

(Puridunia हिन्दी, अंग्रेज़ी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब  पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)…

Related Articles