MP में 28 विधानसभा में हुए उपचुनावों की मतगणना कल

मतगणना पूर्ण होने पर 12 मंत्रियों समेत कुल 355 प्रत्याशियों की किस्मत का फैसला हो जाएगा। मंगलवार को सुबह आठ बजे सबसे पहले डाक मतपत्रों की गिनती की जाएगी। बाद में EVM में दर्ज वोट गिने जाएंगे।

भोपाल: मध्यप्रदेश में 28 विधानसभा उपचुनावों के लिए मतगणना मंगलवार को सुबह आठ बजे सख्त सुरक्षा प्रबंधों और कोरोना संबंधी दिशानिर्देशों का पालन करते हुए संबंधित जिला मुख्यालयों पर प्रारंभ होगी।

आधिकारिक सूत्रों के अनुसार 19 जिलों के 28 विधानसभा क्षेत्रों में उपचुनाव के लिए मतदान 03 नवंबर को हुआ था और कुल 63 लाख 67 हजार से अधिक मतदाताओं में से औसतन 70़ 27 प्रतिशत वोट डाले गए।

12 मंत्रियों समेत कुल 355 प्रत्याशियों की किस्मत का होगा फैसला

मतगणना पूर्ण होने पर 12 मंत्रियों समेत कुल 355 प्रत्याशियों की किस्मत का फैसला हो जाएगा। मंगलवार को सुबह आठ बजे सबसे पहले डाक मतपत्रों की गिनती की जाएगी। इसके बाद इलेक्ट्रानिक वोटिंग मशीन (ईवीएम) में दर्ज वोट गिने जाएंगे।

12 बजे तक नतीजों को लेकर तस्वीर हो जाएँगी साफ़ 

माना जा रहा है कि दो घंटे में रुझान मिलने लगेंगे और दिन में 12 बजे तक नतीजों को लेकर तस्वीर काफी कुछ साफ हो जाएगी। दो दिन पहले आए विभिन्न एजेंसियों के एग्जिट पोल में राज्य में सत्तारुढ़ दल भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) को बढ़त दिखायी गयी है। वहीं भाजपा और कांग्रेस नेताओं के जीत के अपने अपने दावे हैं।

कुल 28 सीटों में से 25 पर संबंधित विधायकों के त्यागपत्र और 03 अन्य पर विधायकों के निधन के कारण उपचुनाव हुआ है। वर्ष 2018 के विधानसभा चुनावों के अनुसार इन 28 सीटों में से 27 पर कांग्रेस का और एकमात्र आगर सीट पर भाजपा का कब्जा था।

12 मंत्रियों और कुछ पूर्व मंत्रियों की प्रतिष्ठा दाव पर

उपचुनाव में राज्य के 12 मंत्रियों और कुछ पूर्व मंत्रियों की प्रतिष्ठा दाव पर लगी है। पूर्व मंत्री तुलसी सिलावट (भाजपा, सांवेर) और गोविंद सिंह राजपूत (भाजपा, सुरखी) एक बार फिर विधानसभा में पहुंचने के लिए बेताब हैं। इसके अलावा राज्य के स्वास्थ्य मंत्री प्रभुराम चौधरी (सांची), लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी मंत्री ऐदल सिंह कंसाना (सुमावली), कृषि राज्य मंत्री गिर्राज डंडोतिया (दिमनी), सहकारिता राज्य मंत्री ओपीएस भदोरिया(मेहगांव), ऊर्जा मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर (ग्वालियर), महिला एवं बाल विकास मंत्री इमरती देवी (डबरा) और लोक निर्माण विभाग राज्य मंत्री सुरेश धाकड़ (पोहरी) की प्रतिष्ठा भी दाव पर है।

राज्य में भाजपा सरकार के मंत्री महेंद्र सिंह सिसोदिया(बामोरी), बृजेंद्र सिंह यादव (मुंगावली), बिसाहूलाल सिंह (अनूपपुर), राजवर्धन सिंह दत्तीगांव (बदनावर) और हरदीप सिंह डंग (सुवासरा) भी चुनाव मैदान में हैं। पूर्व मंत्री महेंद्र सिंह बौद्ध बसपा के टिकट पर भांडेर से चुनाव मैदान में हैं। वे पूर्ववर्ती दिग्विजय सिंह सरकार में गृह मंत्री रह चुके हैं। इसके अलावा भांडेर से इस बार कांग्रेस प्रत्याशी के तौर पर बसपा के पूर्व प्रदेश प्रमुख फूल सिंह बरैया अपनी किस्मत आजमा रहे हैं। बामोरी विधानसभा क्षेत्र में कांग्रेस के टिकट पर पूर्व मंत्री कन्हैयालाल अग्रवाल भी कांटे की टक्कर में हैं। वे पूर्ववर्ती शिवराज सिंह चौहान सरकार में मंत्री रह चुके हैं।

दो सौ तीस सदस्यीय राज्य विधानसभा में वर्तमान में 201 विधायक हैं। इनमें से भाजपा के 107, कांग्रेस के 87, बसपा के दो, सपा का एक और चार निर्दलीय विधायक शामिल हैं। कुल 29 सीट रिक्त हैं, जिनमें से 28 सीटों पर उपचुनाव हो रहे हैं।

230 विधायक होने की स्थिति में बहुमत के लिए 116 की जरुरत

दमोह सीट हाल ही में कांग्रेस विधायक राहुल सिंह के विधायक पद से त्यागपत्र देने के कारण रिक्त हुयी है। त्यागपत्र देने के बाद राहुल सिंह भाजपा में शामिल हो गए हैं। विधानसभा में सभी 230 विधायक होने की स्थिति में किसी भी दल को बहुमत साबित करने के लिए न्यूनतम 116 विधायकों की आवश्यकता है।

राज्य में जौरा, सुमावली, मुरैना, दिमनी, अंबाह, मेहगांव, गोहद, ग्वालियर, ग्वालियर पूर्व, डबरा, भांडेर, करेरा, पोहरी, बमोरी, अशोकनगर, मुंगावली, सुरखी, मलेहरा, अनूपपुर, सांची, ब्यावरा, आगर, हाटपीपल्या, मांधाता, नेपानगर, बदनावर, सांवेर और सुवासरा विधानसभा सीटों पर उपचुनाव हो रहे हैं।

ये भी पढ़ें : बीजेपी ने यूपी और महाराष्ट्र MLC प्रत्याशियों के नाम किये जारी, देखें पूरी सूची

Related Articles

Back to top button