अबू सलेम पर फिर चला कानूनी चाबुक, 16 साल पुराने एक मामले में दोषी करार

नई दिल्ली। पुर्तगाल से प्रत्यर्पण कर भारत लाए गए मुंबई बम ब्लास्ट मामले का दोषी अबू सलेम एक 16 साल पुराने एक अन्य मामले में दोषी ठहराया गया है। दरअसल, दिल्ली की पटियाला हाउस कोर्ट ने 2002 के रंगदारी मांगने के एक मामले में अबू सलेम को दोषी करार दिया है।

मिली जानकारी के अनुसार, 2002 में दिल्ली के ग्रेटर कैलाश के रहने वाले एक व्यापारी अशोक ने पांच करोड़ रुपये की रंगदारी मांगने को लेकर रिपोर्ट दर्ज की गई थी, जिसमें सलेम को आरोपी बनाया गया था। हालांकि अभी तक वह इस मामले को झूठा करार दे रहा था।

आपको बता दें कि 2005 में डॉन अबु सलेम को पुर्तगाल से भारत में प्रत्यर्पण किया गया था। वह 1993 में हुए मुंबई बम ब्लास्ट मामले का आरोपी था। बीते वर्ष मुंबई की विशेष टाडा कोर्ट ने मुंबई बम ब्लास्ट केस में दोषी अंडरवर्ल्ड डॉन अबू सलेम को उम्रकैद की सजा सुनाई थी।

इस बम ब्लास्ट में 250 लोगों की मौत हो गई थी जबकि 700 से ज़्यादा लोग ज़ख़्मी हुए थे। इसके अलावा करोड़ों रुपयों की संपत्ति का नुकसान भी हुआ था। इस मामले में अदालत 6 लोगों (ताहिर मर्चेंट, फिरोज अब्दुल राशिद खान, करीमुल्लाह, अबू सलेम, रियाज़ सिद्दीक़ी और मुस्तफ़ा दोसा) को दोषी क़रार दिया था।

दोषी ठहराए गए ताहिर मर्चेंट और फ़िरोज़ अब्दुल राशिद ख़ान को फांसी की सज़ा सुनाई गई है जबकि रियाज़ सिद्दीक़ी को 10 साल की सज़ा सुनाई गई है। इसके अलावा अबू सलेम और करीमुल्लाह को आजीवन कारावास की सज़ा सुनाई गई।

Related Articles