कोर्ट ने दिया आजम खान को बड़ा झटका, जौहर यूनिवर्सिटी का टूटेगा मुख्य द्वार

नई दिल्ली: आजम खान द्वारा स्थापित जौहर यूनिवर्सिटी पर संकट के बादल मडरा रहे हैं। जौहर यूनिवर्सिटी का मुख्य द्वार तोड़े जाने के आदेश के खिलाफ रामपुर जिला जज की अदालत में दायर की गई। आजम खान की अपील खारिज हो गई है, अब किसी भी समय प्रशासन जौहर यूनिवर्सिटी का मेन गेट गिराए जाने की कार्रवाई कर सकता है।

आपको बता दें समाजवादी पार्टी के वरिष्ठ नेता मोहम्मद आजम खान पिछले डेढ़ साल से अधिक समय से सीतापुर जेल में बंद हैं। फिलहाल वह लखनऊ के मेदांता अस्पताल में भर्ती हैं, जहां उनका पोस्ट कोरोना ट्रीटमेंट चल रहा है।

क्या है पूरा मामला 

2019 में जौहर यूनिवर्सिटी के मुख्य द्वार को सरकारी जमीन पर अवैध निर्माण के रूप में अतिक्रमण बताते हुए भारतीय जनता पार्टी के स्थानीय नेता आकाश सक्सेना हनी ने जौहर यूनिवर्सिटी के गेट को गिराए जाने के लिए जिला प्रशासन से शिकायत की थी। शिकायत के आधार पर एसडीएम सदर रामपुर की अदालत में एक मुकदमा चला था, जिस पर एसडीएम सदर ने जौहर यूनिवर्सिटी के गेट को सरकारी संपत्ति पर अतिक्रमण मानते हुए गिराए जाने के आदेश पारित किए थे। इन्हीं आदेशों के विरुद्ध जौहर यूनिवर्सिटी प्रबंधन द्वारा रामपुर के जिला जज की अदालत में एक अपील दायर की थी, जो खारिज कर दी गई है।

इस बारें में भाजपा नेता आकाश सक्सेना ने जानकारी देते हुए बताया कि जिला जज की अदालत से आजम खान की अपील खारिज हो जाने के बाद अब एसडीएम सदर द्वारा 2019 में जौहर यूनिवर्सिटी के गेट तोड़े जाने का आदेश प्रभावी हो गया है। आकाश सक्सेना ने जिला प्रशासन से अपील की है कि यूनिवर्सिटी के गेट को तोड़कर सरकारी भूमि और पीडब्ल्यूडी द्वारा 13 करोड़ की लागत से बनवाई गई सड़क पर से अतिक्रमण शीघ्र हटाया जाए।

यह भी पढ़ें: Sonam Kapoor आखिर क्यों है प्रमुख फिल्म प्रोडूसर्स की पहली पसंद? ये है वजह

Related Articles