दहेज़ के लिए पति ने मां के साथ मिलकर पत्नी की जिन्दा जलाकर की थी हत्या, चार साल मिली सजा

0

लखनऊ: वर्ष 2013 में हुई एक विवाहिता के परिजनों को करीब चार साल बाद इंसाफ मिल गया है। दरअसल, विवाहिता की हत्या के एक मामले में अदालत ने पति और सास को उम्रकैद की सजा सुनाई है। साथ ही अदालत ने दोषियों पर 20-20 हजार रुपये का जुर्माना भी लगाया है।

मिली जानकारी के अनुसार, वर्ष 2013 में पति और सास पर दहेज़ की लालच में विवाहिता को जिन्दा जला देने का आरोप लगा था।

शासकीय अधिवक्ता आनंद कुमार सक्सेना ने शुक्रवार को बताया कि अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश शैलोज चन्द्र की अदालत ने मौदहा थाने के ढीहा डेरा गांव निवासी नरेश निषाद और उसकी मां रज्जन को विवाहिता रिंकी को अतिरिक्त दहेज की मांग पूरी नहीं होने पर किरोसिन तेल डालकर जिंदा जलाकर मार डालने का आरोप साबित होने पर गुरुवार को उम्रकैद और 20-20 हजार रुपये के जुर्माने की सजा सुनाई है।

उन्होंने बताया कि रिंकी की इलाज के दौरान अस्पताल में चार नवंबर 2013 को मौत हुई थी, उसने मजिस्ट्रेट के समक्ष मृत्यु पूर्व दिए बयान में अपने पति नरेश और सास रज्जन पर किरोसिन तेल छिड़ककर आग लगाने का आरोप लगाया था।

loading...
शेयर करें