पहलवान सुशील कुमार की अग्रिम जमानत याचिका COURT ने की खारिज

नई दिल्ली: ओलंपिक्स में पहलवानी में शानदार प्रदर्शन कर भारत के नाम 2 पदक करने वाले पहलवान सुशील कुमार इस समय एक मामले में कोर्ट के चक्कर काट रहे हैं. मंगलवार को रोहिणी की डिस्ट्रिक्ट कोर्ट में उनकी अग्रिम जमानत का दिल्ली पुलिस ने विरोध किया, जिसके बाद न्यायलय ने उनकी जमानत याचिका खारिज कर दी. बीजिंग और लंदन आयोजित हुई ओलंपिक में रजत और कांस्य पदक जीत चुके सुशील एक पूर्व अंतरराष्ट्रीय रेसलर की कथित हत्या में शामिल होने के आरोपों का सामना कर रहे हैं. सागर धनखड़ नामक उस रेसलर की इस महीने की शुरुआत में दिल्ली के ही एक स्टेडियम में मौत हो गई थी. सुशील कुमार की ओर से दायर याचिका में एडवोकेट कुमार वैभव ने कहा कि आरोपी पर दुर्भावनापूर्ण रूप से निराधार और बेतुके आरोप लगाए गए हैं, जिसका एकमात्र उद्देश्य उनकी की प्रतिष्ठा को ठेस पहुंचाना है.

सुशील कुमार की ओर आरोपों को झूठ करार देते हुए याचिका में कहा गया है कि ‘PCR कॉल के मुताबिक घटना 5 मई को लगभग 1.19 बजे हुई और घटनास्थल, छतरसाल स्टेडियम और पुलिस स्टेशन मॉडल टाउन से दूरी सिर्फ 1KM दूर है. लेकिन इस मामले में 5-6 घंटे की देरी के बाद FIR दर्ज की गई. इंटरनेशनल रेसलर सुशील काफी दिनों से फरार हैं. पहलवान सागर धनखड़ की हत्या में आरोपी बनाए जाने के बाद 4 मई से ही उनका कोई अता-पता नहीं है. इसी बारे में फीडबैक और सूचना पाने के लिए दिल्ली पुलिस ने 1 लाख रुपये के नकद पुरस्कार की घोषणा की थी. इसी के बाद सुशील ने जमानत की अर्जी दी थी.

कोर्ट ने 15 मई को पहलवान सुशील कुमार के खिलाफ नॉन बेलेबेल वारंट जारी किया था. पिछले हफ्ते ही दिल्ली पुलिस ने सुशील कुमार के लिए Look Out नोटिस जारी किया था. अतिरिक्त पुलिस उपायुक्त (North west delhi) गुरइकबाल सिंह सिद्धू ने कहा था कि ‘सुशील कुमार के लिए Look Out नोटिस जारी किया गया है. सुशील कुमार, भारतीय रेलवे में कार्यरत हैं और छत्रसाल स्टेडियम में विशेष ड्यूटी पर एक अधिकारी (OSD) के रूप में तैनात हैं, जहां कथित तौर पर आपसी विवाद के बाद सागर धनखड़ की मौत हो गई थी.

ये भी पढ़ें : भारत छोड़ने की अफवाहों के बीच Adar Poonawalla ने बेची इस कम्पनी से अपनी हिस्सेदारी

Related Articles