कोवैक्सीन को डब्ल्यूएचओ से नहीं मिला approval

नई दिल्ली : डब्ल्यूएचओ  ने भारत की कोरोना वैक्सीन कोवैक्सीन को फिलहाल approval नहीं दिया है। डब्ल्यूएचओ ने भारत की कोरोना वैक्सीन कोवैक्सीन को आपातकालीन उपयोग की सूची में शामिल करने के लिए भारत बायोटेक से अतिरिक्त स्पष्टीकरण मांगा है।

approval न मिलने की वजह यह

इस कड़ी में आपकी जानकारी के लिए बता दें कोवैक्सीन को विकसित करने वाली हैदराबाद की भारत बायोटेक कंपनी ने वैक्सीन को इमरजेंसी उपयोग सूची  में शामिल करने के लिए 19 अप्रैल को डब्ल्यूएचओ को ईओआई पेश किया था।

कोवैक्सीन को इमरजेंसी उपयोग की सूची में शामिल करने के संबंध में पूछे गए एक सवाल के जवाब में डब्ल्यूएचओ ने कहा कि तकनीकी सलाहकार समूह ने बैठक की और फैसला किया कि टीके के ग्लोबल उपयोग के मद्देनजर अंतिम लाभ-जोखिम मूल्यांकन के वास्ते निर्माता से अतिरिक्त स्पष्टीकरण मांगे जाने की जरूरत है।

इसने कहा कि समूह को निर्माता से यह स्पष्टीकरण इस सप्ताह के अंत तक मिलने की संभावना है जिसे 3 नवंबर की बैठक में डिस्कस किया जाएगा। इस कड़ी में मीडिया रिपोर्ट और जानकारों के मुताबिक डब्ल्यूएचओ के परीक्षण में को वैक्सीन को कोरोना के खिलाफ 77.8 फ़ीसदी और डेल्टा वेरिएंट के खिलाफ 65.2 फ़ीसदी प्रभावी पाया गया था जिसके मद्देनजर डब्ल्यूएचओ ने इसकी मंजूरी को फिलहाल रोक दिया है।

यह भी पढ़ें : Tirth Yatra Yojana के तहत मुफ्त में रामलला के दर्शन करेगी दिल्ली

Related Articles