Covid 19 Protocol की उड़ी धज्जियां, kumbh मेले के भीड़ पर उठे सवाल, सीएम ने बोला खुलेआम झूठ

कोरोना संकट के बीच हरिद्वार में कुंभ मेले का आयोजन हो रहा है। बेशक उत्तराखंड समेत देशभर में कोरोना संक्रमण की बढ़ती रफ्तार का खौफ दिख रहा है, लेकिन हरिद्वार महाकुंभ (Haridwar Maha kumbh) में इसका असर न के बराबर दिख रहा है।

नई दिल्ली: सोमवार को बड़ी संख्या में श्रद्धालु हिंदुओं की पवित्र मानी जाने वाली गंगा नदी में स्नान के लिए हरिद्वार पहुंचे। यहां व्यवस्था के काम में लगे अधिकारियों का कहना है कि भारी संख्या में लोगों के इकट्ठा होने से उन्हें कोरोना के कारण लगाई। पाबंदियों का पालन करने में मुश्किलें हो रहा है। देश में कोरोना संक्रमण की स्थिति जहां खतरनाक स्थिति में पहुंच गई है। वहीं, कुंभ मेला (kumbh) जैसे आध्यात्मिक कार्यक्रम अधिकारियों के लिए चिंता का विषय बने हुए हैं।

kumbh में Covid Protocol की उड़ी धज्जियां

कोरोना संकट के बीच हरिद्वार में कुंभ मेले का आयोजन हो रहा है। बेशक उत्तराखंड समेत देशभर में कोरोना संक्रमण की बढ़ती रफ्तार का खौफ दिख रहा है, लेकिन हरिद्वार महाकुंभ (Haridwar Maha kumbh) में इसका असर न के बराबर दिख रहा है। दरअसल, मास्‍क, सोशल डिस्टेंस और कोरोना के नियम भूलकर लाखों की संख्या में भक्‍त कुंभ में पहुंच रहे हैं। यही नहीं, इस दौरान उत्तराखंड सरकार को भी थर्मल स्‍क्रीनिंग और मास्‍क के नियम के पालन के लिए कड़ी मशक्‍कत करनी पड़ रही है। जबकि कई प्‍वाइंट पर मेला प्रशासन नाकाम साबित हो रहा है।

Kumbh Mela 2021 Bathing Dates | Kumbh Mela Haridwar Uttarakhand Gov

तीरथ सिंह रावत का झूठा दावा

हालांकि सीएम तीरथ सिंह रावत ने दावा किया है कि शाही स्नान के दौरान राज्य सरकार ने केंद्र की ओर से जारी की गई कोराना गाइडलाइंस का पूरी तरह से पालन किया गया है। लेकिन यह दावा केवल कथित दावा दिख रही है। क्योंकी पुलिस और प्रशासन से पूछ ताछ पर पुलिस ने कहा है कि श्रद्धालुओं की इतनी बड़ी संख्या देखते हुए उसे सोशल डिस्टैंसिंग (Social distancing) का पालन कराना मुश्किल हो रहा हैं। मीडिया रिपोर्टों में चिकित्सा विभाग के अधिकारियों के हवाले से कहा गया है कि रविवार और सोमवार को 18,169 श्रद्धालुओं की टेस्टिंग हुई जिनमें 102 श्रद्धालु पॉजिटिव मिले।

पुलिस प्रशासन ने खड़े किए हाथ

यह भी पढ़ें

आपको बता दें, हरिद्वार कुंभ मेले के पुलिस महानिरीक्षक संजय गुंजयाल ने कहा, ‘हम लोगों से कोविड-19 प्रोटोकॉल का उचित पालन करने के लिए लगातार अनुरोध कर रहे हैं लेकिन श्रद्धालुओं की भारी भीड़ को देखते हुए आज चालान जारी करना संभव नहीं है। घाटों पर सोशल डिस्टैंसिंग का पालन कराना बहुत मुश्किल है।’

 

 

Related Articles

Back to top button