बुराड़ी केस : मरने से पहले परिवार ने किया था ये फैसला, अब अपनी ही आखों से देखेंगे दुनिया

0

नई दिल्ली : राजधानी दिल्ली के बुराड़ी कांड में एक साथ एक परिवार के 11 लोगों की मौत ने राजधानी समेत पूरे देश का दिल दहला दिया है. इस मामले में जितने सवालों का जवाब पुलिस ढूंढ रही है, उससे कहीं ज्यादा सवाल का जवाब आम आदमी जानना चाह रहा है. इस केस की उलझी हुई गुत्थी ने सबको हैरत में डाला हुआ है. दिल्ली क्राइम ब्रांच की टीम भी जैसे-जैस मामले के तह तक जाने की कोशिश कर रही है. उसके सामने कई तरह के सवाल सामने आ रहे है.

दरअसल, पड़ोसियों के मुताबिक मुताबिक, मृतक पूरा परिवार बहुत ही मिलनसार और सज्जन था. जो हर समय सभी की मदद के लिए तैयार रहता था. इस परिवार के एक फैसले ने इस बात को सही साबित भी किया है. दरअसल, पुलिस को जांच में मौके से एक रजिस्टर मिला है. इसमें उन्होंने लिखा है उन सभी की आंखें दान कर दी जाएं. उनके इस फैसले को ध्यान में रखते हुए भाटिया फैमिली के सभी 11 लोगों की आंखे दान कर दी जाएंगी. सोमवार शाम 5 बजे निगम बोध घाट पर सभी का सामूहिक अंतिम संस्कार कर दिया जाएगा. यानी ये परिवार अपनी मौत के बाद किसी न किसी रूप में जीवित रहेगा.

रजिस्टर में लिखी रहस्यमयी बातों का खुला राज

मृतक परिवार के घर से मिले रजिस्टर के आधार पर ये कहा जा रहा है कि मामला तंत्र मंत्र से भी जुड़ा हो सकता है. रजिस्टर में कुछ नोट्स मिले हैं, उसके आधार पर दावा किया जा रहा है कि परिवार ने मरने का फैसला पहले ही ले लिया था. लेकिन इस परिवार के एक फैसले ने इन्हें फिर से जिंदा कर दिया है.

तंत्र-मंत्र करता था परिवार

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, एसडीएम ने भी अपनी जांच रिपोर्ट क्राइम ब्रांच को सौंपते हुए तंत्र मंत्र की बात मानी है. रिपोर्ट के मुताबिक, भाटिया परिवार किताबों के आधार पर तंत्र मंत्र करता था. सभी की मौत भी इसी के चलते हुई है.

loading...
शेयर करें