अब खुलेंगी बुराड़ी कांड की सारी परतें, क्राइम ब्रांच के हाथ आया घटना का ‘मास्टरमाइंड’

नई दिल्ली। पूरे देश के लिए एक पहेली बन चुके बुराड़ी कांड में क्राइम ब्रांच को बड़ी सफलता हाथ लगी है। मामले से जुड़े जिस अंधविश्वास के पहलू ने सभी की नीदें हराम कर दीं थी। अब उस गुत्थी के सुलझने का वक्त करीब आ गया है। मामले से ताल्लुक रखने वाले उस तांत्रिक का पता चल गया है। बताया जा रहा है कि भाटिया परिवार से जुड़े जिस तांत्रिक की बात की जा रही थी, वह एक महिला है।

कोर्ट के फैसले के बाद भी विवाद जारी, आज LG से…

बुराड़ी कांड में क्राइम ब्रांच

बता दें महिला तांत्रिक भाटिया परिवार का घर बनाने वाले कॉन्ट्रैक्टर की बहन है। वहीं मौत से पहले भाटिया परिवार के छोटे बेटे ने मौत से पहले अपने कॉन्ट्रैक्टर को ही फोन किया था। इस लिहाज से अब मामले में इस महिला तांत्रिक की भूमिका काफी अहम हो जाती है।

खबरों के मुताबिक़ पुलिस ने बताया कि भाटिया परिवार से इस गीता मां नाम की महिला तांत्रिक के ताल्लुकात रहे थे। इस महिला तांत्रिक का दावा है कि वह भूत-प्रेत भगाती है। पुलिस अब इस महिला तांत्रिक को हिरासत में लेकर पूछताछ कर रही है।

J-K: मां की दवा लेने निकले जवान को अगवा कर आतंकियों…

पुलिस अब महिला तांत्रिक से यह जानने की कोशिश कर रही है कि क्या उसे भाटिया परिवार की आत्महत्या की योजना के बारे में पता था, क्या कभी ललित या परिवार के किसी अन्य सदस्य ने इस तरह का कोई संकेत दिया था। पुलिस यह भी जानने की कोशिश कर रही है कि गीता माता का तंत्र विद्या में कितना दखल है।

वहीं दूसरी ओर जांच में बची हुई गुत्थियों को सुलझाने के लिए अब मनोवैज्ञानिकों का सहारा लिया जाएगा। इस बात की जानकारी दिल्ली पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने दी।

मिली जानकारी के अनुसार, बुराड़ी मामले की बची हुई गुत्थी को सुलझाने के लिए दिल्ली पुलिस अब शवों का मनोवैज्ञानिक पोस्टमार्टम कराने की कवायद में जुट गई है। इस मनोवैज्ञानिक पोस्टपार्टम के माध्यम से पुलिस मृतक परिवार की मानसिकता का पता लगाने की कोशिश करेगी। हालांकि अभी यह निर्णय लिया गया है कि आखिर यह पोस्टमार्टम कौन करेगा।

आपको बता दें कि इस प्रकार के पोस्टमॉर्टम में परिवार के जीवित सदस्यों की मानसिकता और मृतक की दिमागी हालत की मैपिंग की जाती है।

पुलिस अधिकारी ने बताया कि घटनास्थल से बरामद कागजों से ‘बड़ तपस्या’ का अभ्यास करने की बात सामने आई है जिसमें लोग बरगद का पेड़ और उसकी टहनियां बनने की कोशिश करते हैं। उन्होंने कहा कि विशेषज्ञ मृतकों की मानसिकता के बारे में जानने का प्रयास करेंगे। इन कागजों में लिखा है कि इस प्रकार के अभ्यास से भगवान प्रसन्न होंगे।

पुलिस को इस मामले में अब भी अंतिम पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट और फॉरेंसिक रिपोर्ट मिलने का इंतजार है। पुलिस शवों का बिसरा भी फॉरेंसिक जांच के लिए भेजेगा ताकि यह पता चल सके कि कहीं इन्हें जहर तो नहीं दिया गया।

Related Articles