उत्तर प्रदेश में मजदूरों को ट्रकों में बैठाना बना गुनाह, सीएम योगी आदित्यनाथ का आदेश

लखनऊ. औरैया में सड़क हादसे के बाद उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ  ने अहम निर्देश दिया है. सीएम ने ट्वीट कर कहा है कि ट्रकों व गैर यात्री वाहनों से श्रमिकों को ढोने वाले वाहन स्वामियों व चालकों के खिलाफ मुकदमा (FIR) पंजीकृत किया जाए. साथ ही ऐसे वाहनों को तत्काल सीज किया जाए. श्रमिकों व कामगारों को भोजन-पानी देकर बसों से उनके गृह नगर भेजने की व्यस्वस्था हो. उधर मुख्यमंत्री के आदेश पर औरैया दुर्घटना के लिए ज़िम्मेदार ट्रक मालिकों व चालकों के खिलाफ हत्या का मामला दर्ज कर लिया गया है. वहीं ट्रक सीज कर दिए गए हैं.

सीएम योगी ने टीम इलेवन की बैठक में भी अहम निर्देश दिए हैं. उन्होंने कहा है कि कोई भी कामगार व श्रमिक पैदल अथवा अवैध व असुरक्षित वाहन से यात्रा ना करे. श्रमिकों की सुरक्षित व सम्मानजनक वापसी के लिए सरकार काम कर रही है. श्रमिकों व कामगारों को ट्रेन से प्रदेश में निशुल्क लाया जा रहा है. प्रदेश की सीमा पर कामगारों आश्रम को को भोजन व पानी उपलब्ध कराया जाए.

बॉर्डर क्षेत्र में 200 बसें तैनात रखने का निर्देश

सीएम ने कहा कि राज्य के बॉर्डर क्षेत्रों में कोई भी कामगार व श्रमिक पैदल अथवा बाइक से या ट्रक से ना आने पाए. बॉर्डर क्षेत्र के हर जिला अधिकारी को 200 बसें रखने का आदेश पहले दिया जा चुका है. उन्हीं बसों से कामगारों को उनके घर भेजें. वहीं क्वॉरेंटाइन सेंटर पर और कम्युनिटी किचन की व्यवस्था को चुस्त-दुरुस्त रखा जाए.

हर गांव में एक अल्ट्रा रेड थर्मामीटर का निर्देश

सीएम ने कहा कि लॉकडाउन को पूरी सख्ती से लागू किया जाए. प्रत्येक गांव में एक अल्ट्रा रेड थर्मामीटर की उपलब्धता सुनिश्चित कराई जाए. वेंटिलेटर के सुचार संचालन के लिए प्रदेश के हर चिकित्सालय में स्टाफ की उपलब्धता हो. प्रधानमंत्री मोदी द्वारा घोषित विशेष आर्थिक पैकेज का प्रदेश को शत-प्रतिशत लाभ दिलाने में कार योजना तैयार करें.

प्रवासी कामगारों को रोजगार के वैकल्पिक अवसर दें

उन्होंने कहा कि जल जीवन मिशन के तहत संभावना तलाशी जाए. प्रवासी कामगारों और श्रमिकों को रोजगार के वैकल्पिक अवसर उपलब्ध कराएं. गोआश्रय स्थलों के आर्थिक मजबूती की दृष्टि से गोबर के कंपोस्ट बनाकर उसका उपयोग वन विभाग तथा नर्सरी में कराया जाए.

Related Articles