क्रूर ग्रह मंगल हो रहे हैं मकर राशि में वक्री, इन राशियों के जीवन में आएगी तबाही

नई दिल्ली। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार ग्रहों के परिवर्तन का राशि अनुसार लोगों के जीवन पर खासा प्रभाव पड़ता है। अगर इन ग्रहों की नजर व्यक्ति पर टेड़ी हो जाए, तो उसके बने बनाए काम बिगड़ने लगते हैं। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार बेहद क्रूर माने जाने वाले मंगल ग्रह ने मकर राशि में गोचर किया है। ऐसे में मंगल का यह परिवर्तन कुछ राशियों के जीवन में तबाही लाने वाला है। मंगल मकर राशि में 27 अगस्त तक रहेंगे। आज हम आपको बताने जा रहे हैं कि इस दौरान किन-किन राशियों को संभल कर रहने की जरुरत है।

वृषभ राशि
मंगल इस दौरान आपकी राशि से नवम भाव में होंगे। नवम भाव कर्म का माना जाता है, इसलिए इस दौरान आपके द्वारा किए गए सभी कार्य मंगल से प्रभावित होंगे। इस कारण आपके कई कार्य विलंबित भी हो सकते हैं, बने-बनाए काम बिगड़ सकते हैं। मंगल आपमें आलस्य का भाव लाएगा, इसलिए अपने कामों में लापरवाही बरतने के कारण भविष्य के लिए की गईं आर्थिक योजनाएं बिगड़ेंगी। प्रॉपर्टी खरीद, लेन-देन आदि के काम कुछ समय के लिए विलंबित कर दें तो अच्छा है, अन्यथा अत्यंत सावधानी बरतें।

मिथुन राशि
मंगल आपकी राशि से अष्ठम भाव में वक्री हो रहे हैं। आपके लिए 2 माह का यह समय अत्यंत सावधानी के साथ चलने का संकेत दे रहा वरना कई बड़े नुकसानों से आपको गुजरना पड़ सकता है। छोटी-छोटी स्वास्थ्य परेशानियां या छोटे लगने वाले वाद-विवाद भी बड़ा रूप लेकर आपको गहरा आघात पहुंचा सकते हैं। भाई-बहनों या करीबी रिश्तेदारों से मनमुटाव की स्थिति आ सकती है, इसलिए उनसे बातचीत या लेनदेन में सावधानी रखें। दुर्घटना की संभावना बन रही है, इसलिए लंबी दूरी की यात्राएं कुछ समय के लिए टाल देना ही आपके लिए हितकर रहेगा।

कर्क
अपने इस वक्री अवधि के दौरान मंगल आपकी राशि से सप्तम भाव में होंगे। यह आपके पारिवारिक जीवन में उथल-पुथल लाएगा। पति-पत्नी के आपसी रिश्ते खराब हो सकते हैं। छोटी-छोटी बातों बातों पर उलझने से बचना ही आपके लिए अच्छा रहेगा। प्रेमी जोड़ों में अलगाव की स्थिति बन सकती हैं।

सिंह
मंगल आपकी राशि से षष्ठी भाव में होने के कारण आपको इस दौरान गुप्त शत्रुओं से सावधान रहने की आवश्यकता है। इसलिए अपनी कार्य योजनाओं को किसी से शेयर करने से बचें, संभव है आपके कार्यों का लाभ कोई और ले जाए। कोई पुराना रोग भी आपको परेशान कर सकता है, इसलिए स्वास्थ्य संबंधी परेशानियों को हल्के में ना लें। पेट और किडनी संबंधी कोई समस्या विशेष रूप से परेशान कर सकती है।

मकर
मंगल आपकी ही राशि में वक्री हो रहे हैं और लग्न यानि कि भाव में होंगे, यह आपके लिए कई प्रकार की परेशानियां लाएगा। मानसिक रूप से जहां यह आपको अशांत करेगा, पुराने रोग सामने आने के कारण भी आपकी समस्याएं बढ़ेंगी। मंगल आपके स्वभाव में जहां चिड़चिड़ापन लाएगा, आपमें आल्स्य भी बढ़ाएगा। इसलिए अपने कामों को बिगड़ाने के लिए आप खुद ही जिम्मेदार बनेंगे। कई कार्य योजनाएं सिर्फ आपके आलस्य के कारण विलंबित होंगी और समय पर पूर्ण नहीं हो पाने के कारण आपके लिए आर्थिक नुकसान का कारण बनेंगी।

Related Articles