CSE का खुलासा… ब्रेड खाने से हो सकता है कैंसर

0

नई दिल्ली। देश में ऐसे शहरी परिवार कम ही होंगे जहां सुबह सुबह ब्रेड न आती हो। ब्रेड हमारे नाश्ते का अहम हिस्सा बन चुकी है। लेकिन पर्यावरण पर नजर रखने वाली संस्था CSE यानी सेंटर फॉर साइंस एंड इनवायरमेंट की पड़ताल जानकर आप चौंक जाएंगे। CSE का कहना है कि ब्रेड खाने से कैंसर हो सकता है।

cse 2CSE की जांच में ब्रेड के 84 फीसदी सैंपल फेल

दरअसल सेंटर फॉर साइंस एंड इनवायरनमेंट के मुताबिक ब्रेड और बेकरी प्रोडक्ट्स में एक विशेष केमिकल पोटैशियम ब्रोमेट की वजह से कैंसर हो सकता है। सीएसई ने जब जांच करवाई तो दिल्ली से लिए गए ब्रेड के चौरासी फीसदी नमूनों में पोटैशियम ब्रोमेट के अंश मिले हैं।

CSE की रिपोर्ट से पता चला है कि ब्रेड बनाने के दौरान आटे में पोटैशियम ब्रोमेट तथा पोटैशियम आयोडेट का इस्तेमाल किया जाता है। पोटैशियम ब्रोमेट से शरीर में कैंसर का खतरा रहता है जबकि पोटैशियम आयोडेट से थायरॉयड होने का डर है।

कई देशों में ब्रेड बनाने में इन केमिकलों के इस्तेमाल पर बैन लगा दिया गया है लेकिन भारत में इन पर प्रतिबंध नहीं है। CSE के मुताबिक भारत में ब्रेड बनाने वाली ज्यादातर कंपनियां इन केमिकल्स का बेधड़क इस्तेमाल करती हैं।

चौंकाने वाली बत है कि हार्वेस्ट गोल्ड ब्रेड पर तो ये लिखा भी नहीं होता कि इसमें पोटैशियम ब्रोमेट का इस्तेमाल हुआ है।

पोटैशियम ब्रोमेट के इस्तेमाल से बीमारी की वजह से ही दुनिया के कई देशों में ब्रेड बनाने में इसके इस्तेमाल पर रोक है। सीएसई ने भारत में भी इसके इस्तेमाल पर रोक लगाने की मांग की है।

इसके अलावा ब्रेड में पोटेशियम आयोडेट के इस्तेमाल को भी रोकने की सिफारिश CSE ने की है। इसकी वजह से थॉयरॉयड से संबंधित बीमारियों को होने का खतरा बढ़ जाता है।

ब्रेड से कैंसर का खतरा होने की बात सामने आने के बाद स्वास्थ्य मंत्री जेपी नड्डा ने कहा है कि घबराने की जरूरत नहीं सरकार जांच करेगी और जरूरी कदम उठाएगी।

loading...
शेयर करें