पश्चिम बंगाल-ओडिशा में Cyclone Yaas का खतरा, इलाकों में Landfall जारी, देखें Video

पश्चिम बंगाल और ओडिशा में चक्रवाती तूफान (Cyclone Yaas) के चलते कईं घरों और बिजली के खंभों को नुकसान पहुंचा, ओडिशा के बालासोर में लैंडफॉल (Landfall) की प्रक्रिया जारी

नई दिल्ली: पश्चिम बंगाल (West Bengal) और ओडिशा (Odisha) पर चक्रवाती तूफान यास (Cyclone Yaas)  का खतरा बढ़ गया है। जिसके चलते पश्चिम बंगाल के नॉर्थ 24 परगना के नैहाटी और हलिशहर में चक्रवात हवा ने कईं घरों को नुकसान पहुंचाया। इस दौरान बिजली के खंभों और तारों को भी नुकसान पहुंचा है। एक महिला ने बताया, हमने 2-3 महीने पहले घर बनाया था। अचानक तूफान आया और 2 सेकंड में सबकुछ उड़ गया। हम लोग बहुत डरे हुए हैं।

IMD के जानकारी के अनुसार, पश्चिम बंगाल के नॉर्थ 24 परगना में चक्रवाती तूफान यास  (Cyclone Yaas) के चलते तेज हवाएं और बारिश हो रही है। पूर्वी मिदनापुर (Midnapore) के दीघा में तेज हवाओं के साथ समुद्र में ऊंची लहरें उठ रही हैं।

ओडिशा में Landfall

ओडिशा (Odisha) के भद्रक (Bhadrak) जिले के धामरा (Dhamra) में तेज हवाएं और बारिश की वजह से समुद्र का पानी बढ़ा है। पानी बढ़ने की वजह से रिहायशी इलाकों में पानी घुसा गया है। मौसम विभाग के अनुसार, CycloneYaas की लैंडफॉल की प्रक्रिया जारी है। इसे पूरा होने में करीब 3 घंटे का समय लगेगा। ओडिशा के पारादीप में चल रही तेज हवाओं की वजह से पेड़ उखड़ गए हैं। चक्रवास यास के मद्देनजेर पारादीप में एनडीआरएफ (NDRF) तैनात है। भद्रक जिले के धामरा और बालासोर जिले के चांदीपुर में तेज हवाओं के साथ भारी बारिश हो रही है। मुख्यमंत्री नवीन पटनायक (Naveen Patnaik) ने वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए राज्य में चक्रवात यास को लेकर तैयारियों की समीक्षा की है।

मौसम विभाग रिपोर्ट

मौसम विभाग (IMD)  के मुताबिक, बहुत गंभीर चक्रवाती तूफान ‘यास’ धामरा के पूर्व में 40 किलोमीटर और बालासोर के 90 किलोमीटर दक्षिण-दक्षिण में केंद्रित है। 130-140 किमी प्रति घंटे की हवा की गति के साथ वीएससीएस। चक्रवाती तूफान यास उड़ीसा को बालासोर (Balasore) के दक्षिण-दक्षिण पूर्व में लगभग 50किमी पर केंद्रित है।

भूस्खलन (Landslide) की प्रक्रिया 0900  बजे IST के आसपास शुरू हो गई है। बालासोर में लैंडफॉल (Landfall) की प्रक्रिया जारी है। इसे पूरा होने में करीब 3 घंटे का समय लगेगा। तूफान की वर्तमान तीव्रता 130-140 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से 155 किमी प्रति घंटे है। 130-140 की रफ्तार से 155 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से हवा के साथ बालासोर के दक्षिण में ओडिशा तट को पार करने की प्रणाली है।

मौसम विभाग IMD (India Meteorological Department) 1030 बजे IST पर नए अवलोकन से संकेत मिलता है कि प्रणाली अब बालासोर के दक्षिण में तट को पार कर रही है। भूस्खलन की प्रक्रिया को पूरा होने में लगभग 2 घंटे का समय लगेगा।

यह भी पढ़ेCorona Update: देश में COVID-19 के 2,08,921 नए मामले, जानें अपनें राज्य में संक्रमण का आंकड़ा

Related Articles