डी-2 गैंग का सरगना जयपुर से गिरफ्तार, कानपुर से जुड़ा है कनेक्शन

एसटीएफ को बड़ी सफलता हासिल हुई है

डी-2 गैंग के सरगना अफजाल को एसटीएफ ने जयपुर से गिरफ्तार कर लिया. वह कानपुर के बाबूपुरवा सीएए-एनआरसी हिंसा का मास्टर माइंड भी था. दो दशक तक कानपुर में आतंक का पर्याय रहे डी 2 गिरोह चलाने वाले छह भाईयों में अफजाल सबसे छोटा है. 12 साल से वह फरार चल रहा था और पुलिस ने सीएए हिंसा के बाद पुलिस ने उसके ऊपर 50 हजार रुपए का इनाम घोषित किया था. कोर्ट में पेश करने के बाद शातिर को जेल भेज दिया गया.

दो दशक तक अफजाल बंधुओं की थी दहशत

एसटीएफ के इंस्पेक्टर लान सिंह ने बताया कि डी 2 गिरोह और इंटर स्टेट 273 छह भाई अतीक, रफीक, शफीक, बिल्लू, बाले और अफजाल के नाम पर पंजीकृत है. 1990 से करीब 2010 तक डी-2 गैंग की कानपुर में दहशत थी. कुलीबाजार निवासी अफजाल उर्फ राजू उर्फ जावेद वर्तमान में मुरलीपुरा पश्चिम जयपुर में रह रहा था. बाबूपुरवा में सन 2019 में सीएए-एनआरसी बवाल में तीन लोगों की हत्या हुई थी. उस बवाल का अफजाल मास्टरमाइंड था. बवाल के बाद वह फरार हो गया था. इसके बाद कानपुर पुलिस ने उसके ऊपर 50 हजार का इनाम घोषित किया था.

कानपुर का माफिया जयपुर से गिरफ्तार

कानपुर का बदमाश अफजाल ने नाम बदलकर मुरलीपुरा पश्चिम जयपुर में अपने घर से ही होजरी का काम शुरू कर लिया था. जावेद नाम से वह होजरी का कारोबार कर रहा था. जयपुर का वह होजरी का बड़ा कारोबारी बन गया था. उसने जयपुर में भी लग्जरी कार और लाखों का फ्लैट समेत करोड़ों की संपत्ति बना डाली थी. गिरफ्तारी के बाद बरामद आधार, पैन कार्ड, डीएल समेत अन्य दस्तावेज में उसका नाम जावेद लिखा है।

Related Articles