David Macmillan और benjamin list को मिला chemistry में नोबल प्राइज

म्यूनिख : जर्मनी के बेंजामिन लिस्ट और अमेरिका के डेविड मैकमिलन को एसिमेट्रिक ऑर्गेनोकैटालिसिस को डिवेलप करने के लिए इस साल chemistry में नोबल प्राइज दिया गया है। नोबल प्राइज की कमेटी ने कहा कि इन दोनों को फार्मास्युटिकल रिसर्च पर बड़ा असर डालने वाले मॉलिक्युलर कंस्ट्रक्शनः ऑर्गेनोकैटालिसिस का एक नया टूल तैयार करने के लिए यह प्राइज दिया है।

पुरानी थ्योरी को गलत साबित कर जीता chemistry नोबेल प्राइज

रिसर्चर्स का लंबे समय से यह मानना था कि सैद्धांतिक तौर पर दो प्रकार के कैटालिस्ट्स मेटल्स और एंजाइम्स उपलब्ध हैं। बेंजामिन और मैकमिलन ने तीसरे प्रकार के कैटालिसिस एसिमेटिक ऑर्गेनोकैटालिसिस को तैयार कर इसे गलत साबित कर दिया। मैकमिलन ने मेटल से एक अधिक टिकाऊ कैटालिस्ट तैयार करने के लिए काम किया। इसके लिए उन्होंने साधारण ऑर्गेनिक मॉलिक्यूल्स का इस्तेमाल किया।

बेंजामिन यह जानना चाहते थे कि क्या वास्तव में एक कैटालिस्ट को हासिल करने के लिए एक पूरे एंजाइम की जरूरत होती है। उन्होंने प्रोलाइन नाम के एमिनो एसिड का यह जांचने के लिए टेस्ट किया कि क्या वह एक केमिकल रिएक्शन को कैटालाइज कर सकता है और इसका नतीजा बहुत अच्छा रहा।

केमिस्टी के लिए नोबल प्राइज कमेटी के अध्यक्ष जोहान एक्युविस्ट ने कहा कि बहुत से लोगों को यह हैरानी हो रही है कि उन्होंने इसके बारे में पहले क्यों नहीं सोचा। एसिमेट्रिक ऑर्गेनोकैटालिसिस ने मॉलिक्यूलर कंस्ट्रक्शन को एक नए लेवल पर पहुंचा दिया है। इसने केमिस्ट्री से पर्यावरण को होने वाले नुकसान को कम किया है और एसिमेट्रिक मॉलिक्यूल्स को प्रोड्यूस करना बहुत आसान बना दिया है।

यह भी पढ़ें : पीएम मोदी ने MP में स्वामित्व योजना के 1,71,000 लाभार्थियों को बांटे ई-प्रॉपर्टी कार्ड

Related Articles