आध्यात्मिक गुरु जोसेफ मार थोमा का निधन, PM मोदी बोले, ‘उनके आदर्श हमेशा रहेंगे’

आध्यात्मिक गुरु जोसेफ मार थोमा का निधन, PM मोदी ने कहा 'उनके आदर्शों को हमेशा याद किया जाएगा'

पथानमथिट्टा: मार थोमा ईसाई समुदाय के आध्यात्मिक प्रमुख जोसेफ मारथोमा मेट्रोपॉलिटन का रविवार तड़के तिरुवल्ला (पथानमथिट्टा) जिले में निधन हो गया है। वह 90 वर्ष के थे और साल 2007 से मार थोमा ईसाई समुदाय के प्रमुख थे। उनका जन्म 27 जून 1931 को हुआ था। ज्यादा उम्र की वजह से वह बीमारी से ग्रसित थे। वह एक स्थानीय निजी अस्पताल में भर्ती थे जहां आज तड़के सुबह करीब 2.30 बजे उन्होंने अंतिम सांस ली।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस वर्ष जून के प्रारंभ में जोसेफ मारथोमा के 90वें जन्मदिन के अवसर पर समारोहों में मुख्यातिथि थे। मार थोमा ईसाई समुदाय के बड़ु सारे संख्या में अनुयायी हैं और जोसेफ मार थोमा की पहचान दूरदृष्टि और करुणा के साथ मानवता की भलाई के लिए सदैव खड़े रहने के तौर पर थी। मार थोमा सीरियन चर्च केरल में स्थित एक सुधारित प्राच्य सीरियाई चर्च है।

ये भी पढ़ें : ऑस्ट्रेलियाई वित्त मंत्री अलेक्जेंडर स्कालेंजबर्ग पाए गए कोरोना संक्रमित

मोदी ने मार थोमा चर्च प्रमुख के निधन पर जताया शोक

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को केरल के पथानामथिट्टा के मशहूर मारथोमा चर्च के प्रमुख डॉ. जोसेफ मार थोमा मेट्रोपॉलिटन निधन पर गहरा शोक व्यक्त किया है। PM मोदी ने जोसेफ मारथोमा के निधन गहरा दुख व्यक्त करते हुए ट्वीट कर शोक संदेश में कहा, “डॉ. जोसेफ मार थोमा मेट्रोपॉलिटन एक धनी और उल्लेखनीय व्यक्तित्व के थे जिन्होंने ताउम्र मानवता की सेवा की और गरीबों और दलितों के जीवन को बेहतर बनाने के लिए पूरी लग्न और मेहनत से जुटे रहे। लोगों के मन में उनके प्रति अपार सहानुभूति, विनम्रता और श्रद्धा का भाव था । उनके नेक आदर्शों को हमेशा याद किया जाएगा। विनम्र श्रद्धांजलि’

प्रधानमंत्री ने एक अन्य ट्वीट में लिखा कुछ माह पहले उन्हें उनके 90वें जन्मदिन समारोह पर संबोधन का अवसर मिला था। उन्होंने इस कार्यक्रम की एक वीडियो क्लिप भी अपने ट्विटर हैंडल पर साझा की है। उसमें डॉ. जोसेफ को लंबे जीवन और सर्वश्रेष्ठ स्वास्थ्य की बधाई देते हुए उनके स्वस्थ्य की कामना की थी।

समाज और राष्ट्र की बेहतरी के लिए अपना जीवन समर्पित किया

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा था कि डॉ. जोसेफ मारथोमा ने हमारे समाज और राष्ट्र की बेहतरी के लिए अपना जीवन समर्पित कर दिया। वह विशेष रूप से गरीबी हटाने और महिला सशक्तीकरण को लेकर पूरे उत्साह से जुटे रहे।

ये भी पढ़ें : अमेरिका में बजट घाटे में वृद्धि, रिकॉर्ड 3.1 खरब डॉलर तक बढ़ा

Related Articles