अलौकिक थ्रिलर शैली में काम मिलने से दीपिका कक्कड़ को नहीं पड़ता कोई फर्क

मुंबई। अभिनेत्री दीपिका कक्कड़ को लगातर अलौकिक थ्रिलर शैली में काम मिलने से कोई फर्क नहीं पड़ता। उनका कहना है कि वह शायद इसमें श्रेष्ठता हासिल कर सकती हैं। दीपिका ‘सुसराल सिमर का’ में दिखाई दी थीं, जिसमें मुख्य किरदार श्राप के बाद एक मक्खी में तब्दील हो जाता है। वह स्टार प्लस के अलौकिक थ्रिलर ‘कयामत की रात’ में भी दिखाई दे रही हैं।

 अभिनेत्री दीपिका कक्कड़उनसे जब पूछा गया कि इस शैली में रखे जाने से उन्हें डर नहीं लगता, इसके जवाब में दीपिका ने बताया, “तो क्या? ठीक है, शायद मैं इसमें श्रेष्ठता हासिल कर सकती हूं। शायद मैं इसमें अच्छा कर सकती हूं और दर्शक, निर्माता व निर्देशक मुझे करते हुए देखना पसंद करते हैं। शायद यह मेरा मजबूत हिस्सा हो सकता है। ठीक है इसमें कोई गलती नहीं है।”

छोटे पर्दे पर कल्पना थ्रिलर प्रतिगामी के रूप में देखा जाता है जिसके बारे में बात करते हुए दीपिका ने कहा, “जब आप ‘गेम ऑफ थ्रोन्स’ देखते हो तो आपको कल्पना थ्रिलर या अलौकिकता जैसा कोई अनुभव महसूस नहीं होता। इसमें भी वही महसूस होता है। इसलिए जब भारत में इसे दिखाया जाता है.तो मुझे लगता है कि बहुत से लोगों को यह स्वीकार करने की जरूरत है कि हां, हमारे शो भी अच्छे हो सकते हैं, इन्हें देखने का प्रयास करें। दीपिका को आशा है कि ‘कयामत की रात’ को दर्शकों से अच्छी प्रतिक्रिया मिलेगी।

Related Articles