Deepika Kumari ने Archery World Cup में जीता स्वर्ण पदक, भारत के नाम 4 Gold

दीपिका कुमारी ने पेरिस में तीरंदाजी विश्व कप स्टेज 3 में महिला व्यक्तिगत रिकर्व स्पर्धा में स्वर्ण पदक जीता

नई दिल्ली: दीपिका कुमारी (Deepika Kumari) ने पेरिस में तीरंदाजी विश्व कप (Archery World Cup) स्टेज 3 में महिला व्यक्तिगत रिकर्व स्पर्धा में स्वर्ण पदक जीता। इस प्रतियोगिता में भारत के नाम 4 Gold Medal रहे।

दीपिका कुमारी बिल्कुल निचले पायदान से निशानेबाजी के खेल में शुरुआत करने वाली वे आज अंतरराष्ट्रीय स्तर की शीर्ष खिलाड़ियों में से एक हैं। दीपिका को तीरंदाजी में पहला मौका 2005 में मिला जब उन्होने पहली बार अर्जुन आर्चरी अकादमी ज्वाइन किया। यह अकादमी झारखंड के मुख्यमंत्री अर्जुन मुंडा की पत्नी मीरा मुंडा ने खरसावां में शुरू की थी।

अगले महीने होने वाले टोक्यो ओलंपिक (Tokyo Olympics) से पहले भारत का इस ग्लोबल प्रतियोगिता में यह बेहतरीन प्रदर्शन रहा है। भारत को तीन स्वर्ण पदक दिलाने में दीपिका की अहम भूमिका रही। उन्होंने महिला व्यक्तिगत रिकर्व स्पर्धा के फाइनल में रूस की एलिना ओसिपोवा को 6-0 से हराकर एक दिन में स्वर्ण पदकों की हैट्रिक पूरी की है।

तीरंदाजी विश्व कप एक प्रतियोगिता है, जिसे 2006 में विश्व तीरंदाजी संघ द्वारा आयोजित किया गया था, जहां तीरंदाज चार देशों में चार चरणों में प्रतिस्पर्धा करते हैं और प्रत्येक श्रेणी के सर्वश्रेष्ठ 8 तीरंदाज आगे बढ़ते हैं।

तीर चलाने की कला

तीरंदाजी तीर चलाने के लिए धनुष का उपयोग करने की कला, खेल है। ऐतिहासिक रूप से, तीरंदाजी का उपयोग शिकार और युद्ध के लिए किया जाता रहा है। आधुनिक समय में, यह मुख्य रूप से एक प्रतिस्पर्धी खेल और मनोरंजक गतिविधि है। एक व्यक्ति जो तीरंदाजी में भाग लेता है उसे आम तौर पर एक धनुर्धर या तीरंदाज कहा जाता है, और एक व्यक्ति जो तीरंदाजी का शौकीन या विशेषज्ञ होता है उसे कभी-कभी टोक्सोफिलाइट या निशानेबाज कहा जाता है।

यह भी पढ़े:  Vodafone Idea अपने यूजर्स को मात्र इतने रुपए में दे रहा है प्रीपेड प्लान, जानिए इसके फायदे

(Puridunia हिन्दीअंग्रेज़ी के एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)

Related Articles