रक्षा मंत्री ने सीमावर्ती इलाको में किया 44 पुलों का उद्घाटन, जनता और सेना दोनों के लिए होंगे फायदेमंद

रक्षा मंत्री ने सीमावर्ती इलाको में किया 44 पुलों का उद्घाटन, जनता और सेना दोनों के लिए होंगे फायदेमंद

नई दिल्ली: रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने सोमवार को 44 पुलों का वर्चुअल उदघाटन किया। ये पुल सीमावर्ती इलाकों में बनाए गए है। इनमे से ज्यादातर पुल भारत-चीन सीमा क्षेत्र जैसे लद्दाख, अरुणाचल प्रदेश, सिक्किम, उत्तराखंड में बनाये गए है। जबकि कुछ पुलों का निर्माण भारत-पकिस्तान सीमा से जुड़े पंजाब और जम्मू कश्मीर में किया गया है।

सीमावर्ती क्षेत्रों में बड़े और ऐतिहासिक बदलाव लाने में जुटी सरकार

राजनाथ सिंह ने एक वर्चुअल समारोह के जरिये इन पुलों का उदघाटन किया, और आवागमन को शुरू करने के लिए हरी झंडी दिखाई। राजनाथ सिंह ने लद्दाख में चीन से हुए गतिरोध का जिक्र करते हुए कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में देश न केवल संकट का मजबूती से सामना कर रहा है, बल्कि इन सीमावर्ती क्षेत्रों में बड़े और ऐतिहासिक बदलाव लाने में भी जुटा है।

ज्यादातर पुलों का निर्माण सीमा पर बेहद रणनीतिक अहमियत वाले इलाकों में

इन 44 पुलो में से 7 लद्दाख में हैं, जहां भारत और चीन की सेना के बीच कई इलाकों में गतिरोध बना हुआ है। आधिकारिक सूत्रों के मुताबिक,ज्यादातर पुलों का निर्माण सीमा पर बेहद रणनीतिक अहमियत वाले इलाकों में किया गया है।

दूरदराज के क्षेत्रों को कनेक्टिविटी प्रदान करेंगी ये परियोजनाएं

पुलों के उदघाटन के बाद रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह अपने ट्विटर अकाउंट पर कुछ फोटोज शेयर करते हुए लिखा, कि 44 प्रमुख स्थायी पुलों को आज राष्ट्र को समर्पित करने के लिए बेहद खुश हूँ । इस अवसर पर अरुणाचल प्रदेश में नेचिपु सुरंग के लिए फाउंडेशन स्टोन भी रखा गया था। ये सीमावर्ती बुनियादी ढांचा परियोजनाएं रणनीतिक महत्व की हैं, और दूरदराज के क्षेत्रों को कनेक्टिविटी प्रदान करती हैं।

44 पुलों का उद्घाटन अपने आप में एक महत्वपूर्ण उपलब्धि

राजनाथ सिंह ने कहा कि ये 44 पुल सात राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में फैले हुए हैं। मैं चुनौतीपूर्ण समय में अनुकरणीय कार्य करने के लिए महानिदेशक सीमा सड़क संगठन और उनकी टीम को बधाई देता हूं। अपने आप में 44 पुलों का उद्घाटन एक महत्वपूर्ण उपलब्धि है।

ये पुल जनता और सेना दोनों के लिए फायदेमंद

रक्षा मंत्री ने चीन और पकिस्तान की सीमाओ पर बनी स्थिति की ओर इशारा करते हुए रक्षा मंत्री ने कहा, “सभी उत्तरी और पूर्वी सीमा पर हालात से वाकिफ हैं। उन्होंने कहा की पकिस्तान और चीन दोनों मानो सीमा पर विवाद को जन्म देने की मुहीम में जुटे हुए है। इन इलाकों में बने तनाव के बीच ये पुल जनता और सेना दोनों के लिए फायदेमंद होंगे। सीमावर्ती इलाको में बने ये पुल सशस्त्र सीमा बल को आने जाने में सहायता प्रदान करेंगे।

ये भी पढ़ें : ट्रंप की जीत पर तालीबान को इत्मीनान, अमेरिकी चुनावों में ट्रंप की वापसी का जताया भरोसा

Related Articles