लद्दाख में 63 बुनियादी परियोजनाओं का रक्षा मंत्री Rajnath Singh ने किया उद्घाटन

लद्दाख में रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने सीमा सड़क संगठन (BRO) द्वारा निर्मित 63 बुनियादी परियोजनाओं का उद्घाटन किया है

लेह: रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह (Defence Minister Rajnath Singh) ने लद्दाख (Ladakh) दौरे के दूसरे दिन लेह (Leh) में सैनिकों से मुलाकात  की है। इस दौरान  सैनिकों ने ‘भारत माता की जय’ का नारा लगाया। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि मैं सबसे पहले उन सभी जवानों की स्मृतियों को नमन करता हूं जिन्होने जून 2020 में ‘गलवान घाटी’ में देश के लिए अपने प्राणो का बलिदान दिया। मै यह भी कहना चाहता हूं कि यह देश उनके बलिदान को कभी नहीं भूलेगा।

उन्होंने बोला मुझे बताया गया है कि 14th Corp के 3rd division की स्थापना 1962 में भारत-चीन युद्ध के दरमियान हुई थी। अपने स्थापना के कुछ वर्षों में ही 1965 की भारत-पाकिस्तान युद्ध में आपने निर्णायक भूमिका निभाई। ‘कारगिल युद्ध’ (Kargil war) में भी आपके वीरता के कहानियों ने देशवासियों का सिर ऊंचा किया।

63 बुनियादी परियोजनाओं का उद्घाटन

लद्दाख में रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने सीमा सड़क संगठन (BRO) द्वारा निर्मित 63 बुनियादी परियोजनाओं का उद्घाटन किया। उन्होंने कहा, जिन सड़कों का निर्माण BRO कर रहे हैं वह देश की विकास की गति को बढ़ाने वाले हैं। आज 63 पुल और सड़कों का लोकापर्ण हुआ। ये BRO कर्मियों की सूझबूझ से हुआ है।

राजनाथ सिंह, कारू मिलिट्री सेंटरन (Karoo Military Center) में एक सभा को संबोधित करते हुए बोले कि जिन भी जवानों ने भारत की सीमा की सुरक्षा करते हुए शहादत दी है, देश उनकी शहादत को कभी भूल नहीं सकता हमको अगर किसी ने आंख दिखाने की कोशिश की है तो उसको मुंह तोड़ जवाब भी हमने दिया है: रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, कारू मिलिट्री सेंटर में एक सभा को संबोधित करते हुए

इसके अलावा राजनाथ सिंह और सेना के जवानों ने यूटी (UT) में अपनी 3 दिवसीय यात्रा के दौरान लेह में ‘वाहेगुरु जी का खालसा, वाहेगुरु जी की फतेह’ गाया। राजनाथ सिंह ने कहा कि UT बनाने की जरूरत क्यों पड़ी? आतंकवाद और सामाजिक-आर्थिक विकास की कमी के कारण। लोग मूलभूत सुविधाओं से भी वंचित थे। मुझे नहीं लगता कि कोई संवेदनशील सरकार इसे बर्दाश्त करेगी। केंद्र शासित प्रदेश के गठन के बाद आतंकवाद की गतिविधियां कम हुईं। सराहनीय कार्य कर रही है सेना।

यह भी पढ़ेपूर्व प्रधानमंत्री PV Narasimha Rao की 100वीं जयंती पर जानिए 1991 का राजनीतिक इतिहास

(Puridunia हिन्दीअंग्रेज़ी के एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)

Related Articles