दिल्ली: वेश्यावृत्ति के लिए होटल लाई गईं थीं 39 लड़कियां, स्वाती मालीवाल ने किया रैकेट का भंडाफोड़

0

नई दिल्ली: राष्ट्रीय राजधानी में चल रहे अंतर्राष्ट्रीय वेश्यावृत्ति रैकेट का बड़ा मामला सामने आया है। दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल ने दिल्ली पुलिस की मदद से मंगलवार देर रात पहाड़गंज इलाके में 39 लड़कियों इस रैकेट के चंगुल से को आजाद कराया है। इन सभी लड़कियों को नेपाल से यहां वेश्यावृत्ति के लिए लाया गया था, लेकिन मौका रहते ही इन लड़कियों को बचा लिया गया। ये सभी महिलाएं पहाड़गंज के एक होटल में थीं, जहां से इन्हें छुड़ाया गया है।

महिला आयोग और पुलिस ने ऑपरेशन कर छुड़ाया

इससे पहले दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल ने मंगलवार को पुलिस के साथ साझा अभियान चलाकर 18 महिलाओं को छुड़वाया था। इन महिलाओं को दिल्ली के ही वसंत विहार पुलिस थाना क्षेत्र से छुड़ाया गया था। पुलिस ने बताया कि एक संयुक्त अभियान में वाराणसी पुलिस की अपराध शाखा और दिल्ली पुलिस ने कल वसंत विहार पुलिस थाना क्षेत्र में एक मकान पर छापेमारी की और 18 महिलाओं को छुड़ाया। इनमें 16 महिलाएं नेपाल की हैं।

खाड़ी के देश भेजने की थी तैयारी

पुलिस ने बताया कि इन महिलाओं को पिछले कुछ दिनों से एक घर में बंद करके रखा गया था और उन्हें जल्दी ही तस्करी के जरिए खाड़ी के देशों में भेजने की योजना थी। उन्होंने मामले में पूछताछ के लिए तीन लोगों को हिरासत में लिया है। आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल ने बताया कि महिलाओं को आश्रय गृह में भेजा जाएगा और इसके बाद उन्हें वापस भेजने के लिए नेपाली दूतावास से संपर्क किया जाएगा। उन्होंने बताया कि जिस जगह पर इन महिलाओं को रखा गया था वहां से कुल 68 पासपोर्ट बरामद किए गए हैं, जिसमे से 7 पासपोर्ट भारतीय हैं।

नौकरी का झांसें में आकर दलदल में फंसी महिलाएं

पुलिस के अनुसार इन नेपाली महिलाओं ने बताया कि उन्हें नौकरी का झांसा देकर यहां लाया गया है। पहले इन महिलाओं को वाराणसी लाया गया और इसके बाद इन्हें खाड़ी के देश भेजने की तैयारी थी। जिन महिलाओं को पुलिस ने छुड़ाया है वह नेपाल के भूकंप प्रभावित इलाके की रहने वाली हैं। महिला आयोग के अनुसार ज्यादातर महिलाओं ने अपना घर भूकंप में खो दिया है और इनका परिवार खत्म हो चुका है। अधिकतर महिलाओं की उम्र 18 से 30 वर्ष के बीच की है।

loading...
शेयर करें