दिल्ली सरकार ने लिया बड़ा फैसला, सभी मंत्री बिना पेट्रोल-डीजल के चलाएंगे कार

नई दिल्ली: दिल्ली सरकार (Delhi government) ने बढ़ते प्रदूषण को कम करने व पेट्रोल की महंगाई से निजात पाने के लिए एक अनोखा उपाय निकाला जो आज तक देश के किसी राज्य ने नहीं निकाला होगा। केजरीवाल सरकार (Kejriwal government) ने अपने सभी मंत्री और अधिकारियो की गाड़ियों को इलेक्ट्रिक गाडी में बदलने का फैसला लिया है। अब इन सभी के लिए उपयोग की जाने वाली सभी लीज या किराए की कारों को अगले छह महीने के अंदर इलेक्ट्रिक गाड़ी में बदल दिया जाएगा।

चार्जिंग स्टेशन का काम शुरू

अब सोच रहें होंगे कि अगर इलेक्ट्रिक गाडी चलेंगी तो इसकी चार्जिंग में बिजली की खपत होगी। सरकार ने इन आशंकाओं को दूर करने के लिए सार्वजनिक चार्जिंग स्टेशन बनाने का काम शुरू कर दिया है। दिल्ली में पहले से ही 70 से अधिक सार्वजनिक चार्जिंग स्टेशन चल रहे हैं। इसके अलावा 100 स्थानों पर जल्द ही 500 और चार्जिंग पॉइंट शुरू होंगे।

ये भी पढ़ें : अनिल विज का महबूबा मुफ्ती पर हमला, कोई भी ताकत 370 को नहीं ला सकती वापस

कैलाश गहलोत ने की अपील

परिवाहन मंत्री कैलाश गहलोत ने कहा कि मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के नेतृत्व में यह अनोखा काम शुरू हो रहा है। अब अपनी सभी सरकारी कारों को पेट्रोल-डीजल से बदल कर इलेक्ट्रिक में बदलने जा रही है। उन्होंने कहा, अधिकारियों के आने-जाने के लिए उपयोग करने वाली सभी लीज या किराए पर ली गई कारों को छह महीने के अंदर इलेक्ट्रिक में परिवर्तित कर दिया जाएगा। इसके माध्यम से हम दिल्ली को प्रदूषण मुक्त बना सकते हैं। इस लक्ष को तभी पा सकते है जब सब लोग साथ देंगे। इसलिए सभी दिल्ली वालों से जो नया चार पहिया वाहन खरीदने की योजना बना रहे हैं, उनसे आग्रह करता हूं कि वो स्वच्छ, हरित इलेक्ट्रिक वाहन खरीदें। कैलाश गहलोत ने चार पहिया वाहनों के मालिकों से इलेक्ट्रिक वाहन खरीदने की अपील की है।

ये भी पढ़ें : बाजारों में बढ़ रही भीड़, जनता नहीं गंभीर, सरकार करती रह गई ऐलान

Related Articles

Back to top button