दिल्ली सरकार का फैसला, मेट्रो में कोई भी यात्री खड़े होकर नहीं करेगा सफर

नई दिल्ली: कोरोना संक्रमण में घटते मामलों के बाद दिल्ली (Delhi) में 26 जुलाई से मेट्रो और बसों को 100 प्रतिशत क्षमता के साथ चलाने की घोषणा डीडीएमए (DDMA) ने कर दी गई है। इसके साथ ही सिनेमा हॉल, मल्टीप्लेक्स, थियेटर खोलने की भी छूट दे दी गई है। कोरोना नियमो के मुताबिक, सरकार ने साफ कह दिया है कि दिल्ली मेट्रो पूरी क्षमता के साथ चलेंगी, लेकिन अब भी इनमें खड़े होकर सफर करने की अनुमति नहीं रहेगी। दिल्ली मेट्रो (Delhi metro) ने ये जानकारी अपने ऑफिशियल टि्वटर हैंडल पर दी है।

दिल्ली मेट्रो ने ट्वीट में जानकारी दी है कि 26 जुलाई यानी सोमवार से मेट्रो ट्रेनें पूरी क्षमता यानी फुल-सीटिंग कैपेसिटी के साथ चलेंगी। एक बोगी में एक साथ 50 यात्री ही सफर कर सकेंगे और दिल्ली मेट्रो में कोई भी यात्री खड़े होकर सफर नहीं करेंगे। DMRC ने कहा है कि कोरोना की रोकथाम को लेकर जारी की गई गाइडलाइंस का पालन पूरी तरह से करना होगा। इसके अलावा ये भी कहा है कि अगले कुछ दिनों में DMRC के अधिकारी परिस्थितियों का अवलोकर करेंगे, इसके बाद जो भी फैसला लिया जाएगा उसकी जानकारी दे दी जाएगी।

दिल्ली में दी गई इन छूट के साथ हर किसी कोरोना गाइडलाइन का पालन करना अनिवार्य होगा। इस आदेश के बाद दिल्लीवासियों को अब सोमवार से दिल्ली मेट्रो और बसों में सफर करने की राहत मिलना शुरू हो जाएगी। दिल्ली में कोरोना संक्रमितों की संख्या काफी कम है। इसके अलावा कोरोना की तीसरी लहर से सावधान रहने के लिए डीडीएमए ने दिल्ली मेट्रो और बस में सफर करने वालों के लिए कोरोना गाइडलाइन का पालन करने का देश दिया है।

Related Articles