HC ने Twitter को लगाई फटकार, दे दिया आखिरी मौका

ट्विटर ने कहा है कि आकस्मिक कार्यकर्ता भारतीय निवासी होगा, जो किसी भी शिकायत के लिए जिम्मेदार होगा, हम इसको लेकर एक हलफनामा दाखिल करेंगे।

नई दिल्ली: दिल्ली उच्च न्यायालय (Delhi High Court) ने आज बुधवार ट्विटर (twitter) को हलफनामा दाखिल करने का एक आखिरी मौका दे दिया है। जस्टिस रेखा पल्ली की एक एकल न्यायाधीश पीठ सूचना प्रौद्योगिकी मध्यवर्ती दिशानिर्देश और डिजिटल मीडिया आचार संहिता नियमों के साथ ट्विटर इंडिया (Twitter India) व ट्विटर इंक (Twitter Inc.) द्वारा गैर-अनुपालन के खिलाफ दायर एक याचिका पर सुनवाई कर रही थी। इस दौरान उन्होंने कहा, ट्विटर का हलफनामा नए आईटी नियमों का गंभीर गैर-अनुपालन दिखाता है।

सुनवाई के दौरान वरिष्ठ अधिवक्ता साजन पूवैया ने अदालत को अवगत कराया कि ट्विटर द्वारा दो हलफनामे दाखिल किए गए हैं, जिसमें बताया गया है कि मुख्य अनुपालन अधिकारी और शिकायत अधिकारी के संबंध में नियुक्तियां की जा चुकी हैं और ट्विटर अब इस शब्द का इस्तेमाल न करे।

ट्विटर ने कहा है कि आकस्मिक कार्यकर्ता भारतीय निवासी होगा, जो किसी भी शिकायत के लिए जिम्मेदार होगा, हम इसको लेकर एक हलफनामा दाखिल करेंगे। सुनवाई करते हुए कोर्ट ने उक्त नियुक्तियों में ‘आकस्मिक कार्यकर्ता’ शब्द के प्रयोग पर आपत्ति जताई है।

आप को बता दें कि दिल्ली हाईकोर्ट ने ट्विटर (twitter) के खिलाफ कड़े शब्दों में आदेश देते हुए माइक्रो ब्लॉगिंग साइट को बेहतर हलफनामा दाखिल करने के लिए एक सप्ताह का समय दिया है।

यह भी पढ़ें: जासूसी कांड पर राहुल का हमला, कहा- मोदी सरकार ने कराई जासूसी, देने होंगे जवाब

Related Articles