कोरोना से बेदम दिल्ली ने इन होटल्स को बनाया एक्सटेंडेड कोविड Hospital

नई दिल्ली : देश की राजधानी दिल्ली समेत पूरे देश में कोरोना वायरस की सेकेंड वेव भयानक रूप ले चुका है। बुधवार को दिल्ली में कोरोना के रिकॉर्ड नए मामले दर्ज हुए और उनमे से 104 लोगों की मौत भी हो गई है। कोरोना के तेजी से बढ़ते मरीजों को देखते हुए दिल्ली की केजरीवाल सरकार ने एक बड़ा फैसला लिया है। असल में मसला यह है की दिल्ली सरकार ने कोरोना की बेकाबू रफ्तार के गिरफ्त में आए इन लोगों के इलाज के लिए अब दिल्ली के होटल्स को एक्सटेंडेड कोविड Hospital में बदलना शुरू कर दिया है। दिल्ली सरकार ने DDMA एक्ट के तहत प्राइवेट होटल्स को अस्पतालों के साथ लिंक कर उनमें कोविड मरीजों के लिए बेड्स लगाने और उनका इलाज शुरू करने का आदेश दे दिया है।

यह भी पढ़ें : Meghalya :आखिर क्यों सरकार ने लिया एग्जाम न टालने का फैसला ?

कोरोना पेशंट्स को बेहतर इलाज देने के लिए सरकार ने  होटल के साथ साथ बैंक्वेट हॉल को भी अस्पतालों के साथ लिंक करने का फैसला किया है ताकि बेड की संख्या बढ़े और कोविड मरीजों को भर्ती के समय बेड मिलने में कोई परेशानी न हो। दिल्ली सरकार के फरमान के मुताबिक, अब हल्के लक्षण वाले कोरोना मरीजों का इलाज होटल्स में और सीरियस केसेस का इलाज अस्पताल में होगा।

पांच सितारा होटल भी बनाये गए हैं एक्सटेंडेड Hospital

दिल्ली के हेल्थ मिनिस्टर सत्येंद्र जैन ने बातचीत में बताया कि कुल 23 अस्पतालों को होटल और बैंक्वेट हॉल से जोड़ा गया है। जिन होटल्स को अस्पतालों से लिंक किया गया है, उनमें पश्चिम विहार का रेडिशन ब्लू, ओखला का क्राउन प्लाजा और ITC सहित कई मशहूर 5 स्टार होटल के नाम शामिल हैं। DDMA एक्ट के मुताबिक, हॉस्पिटल से लिंक्ड होटल में अब सरकार को ज़रूरत के मुताबिक नर्स और डॉक्टरों की तैनाती के साथ मरीज़ों के ज़रूरत के मुताबिक ऑक्सीजन के सिलिंडर,पीपीई किट्स, एन-95 मास्क, ग्लव्स, दवाईंया और अन्य साजो-सामान की सप्लाई भी करनी होगी जल्द से जल्द करनी होगी।

यह भी पढ़ें : Meghalya :आखिर क्यों सरकार ने लिया एग्जाम न टालने का फैसला ?

Related Articles