‘लूट’ के सहारे दिल्‍ली पुलिस लिम्का बुक ऑफ रेकॉर्ड्स में

bs-bassi-delhi

नई दिल्ली। दिल्ली पुलिस ने पहली बार लिम्का बुक ऑफ रेकॉर्ड्स में जगह बनाई है। यह उपलब्धि एक लूट के सहारे मिली है। दिल्ली पुलिस कमिश्नर बी एस बस्सी ने इस बात की सूचना ट्विटर पर दी।

पढ़ें : ये है आज तक की सबसे बड़ी लूट

उन्‍होंने लिखा, ‘दिल्ली पुलिस का नाम भारत में लूट की सबसे बड़ी नकद वसूली (22.49 करोड़ रुपए) करने के लिए लिम्का बुक ऑफ रेकॉर्ड्स में दर्ज किया गया है।’

पढ़ें : एक रात के करोड़पति ने ला दिए थे भिखारियों के अच्‍छे दिन

बस्सी ने लिम्का बुक के सर्टिफिकेट की तस्वीर भी ट्विटर पर साझा की। इसमें लिखा गया है कि बीते साल 27 नवंबर को दिल्ली पुलिस ने चोरी की सबसे बड़ी रकम (22 करोड़ 49 लाख 89 हजार 500 रुपए) की नकद वसूली की।

पुलिस ने इस मामले में महज 10 घंटे में आरोपी को ढूंढ निकाला था। आरोपी ने लूटी गई रकम में दस हजार रुपए खर्च कर दिए थे। शेष राशि पुलिस ने बरामद कर ली थी।

क्‍या हुआ था उस दिन

घटना दक्षिणी दिल्ली के गोविंदपुरी मेट्रो स्टेशन के पास की है। 27 नवंबर की शाम एक कैश वैन एटीएम में पैसे डालने निकली। वैन के गार्ड विनय पटेल ने टॉयलेट जाने के लिए गाड़ी रुकवाई। विनय गाड़ी से उतरा तो ड्राइवर प्रदीप शुक्‍ला ने यू टर्न लेकर आने की बात कही। विनय साइड में टॉयलेट के लिए चला गया। प्रदीप गाड़ी लेकर आगे बढ़ा लेकिन लौटा नहीं। काफी देर तक प्रदीप नहीं लौटा तो गार्ड विनय ने घबराकर पुलिस को सूचना दी। कुछ देर बाद गोविंदपुरी मेट्रो स्टेशन के पास कैश वैन तो मिल गई लेकिन वैन में रखे गए पैसे गायब थे। वैन में सिर्फ खाली बॉक्स पड़े थे।

 

 

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button