दिल्ली: चांदनी चौक से हो सकती है शीला दिक्षित उम्मीदवार

0

कांग्रेस और आम आदमी पार्टी के बीच लोकसभा चुनाव के लिए गठबंधन को लेकर लंबे समय से जारी बातचीत पर विराम लगता नजर आ रहा है.गठबंधन को लेकर दोनों ही पार्टियों में सहमति नहीं बन सकी है. गठबंधन ना होता देख कांग्रेस ने अब दिल्ली की सभी 7 लोकसभा सीटों पर उम्मीदवार उतारने का फैसला ले लिया है. सूत्रों के मुताबिक कांग्रेस इस संबंध में रविवार को औपचारिक घोषणा कर सकती है.

दिल्ली प्रदेश कांग्रेस की अध्यक्ष शीला दीक्षित ने शनिवार को कहा कि पार्टी रविवार या उसके बाद उम्मीदवारों का ऐलान कर सकती है. वहीं चांदनी चौक से चुनाव लड़ने को लेकर शीला दीक्षित ने कहा कि मैंने इसके बार में सुना है. इस पर फैसला पार्टी लेगी. बता दें कि इससे पहले उनका नाम पूर्वी दिल्ली सीट से चल रहा था लेकिन सूत्रों के मुताबिक अब उनका नाम चांदनी चौक के लिए लगभग तय कर दिया गया है.

नई दिल्ली से अजय माकन को मिल सकता है टिकट

सूत्रों से मिली खबर के मुताबिक नई दिल्ली से अजय माकन, चांदनी चौक से दिल्ली कांग्रेस अध्यक्ष शीला दीक्षित, नॉर्थ वेस्ट की आरक्षित सीट से राजेश लिलोठिया या राजकुमार चौहान, नॉर्थ ईस्ट से जेपी अग्रवाल, साउथ दिल्ली से रमेश कुमार और वेस्ट दिल्ली से सुशील कुमार को कांग्रेस लोकसभा चुनाव में उतार सकती है.

सीट शेयरिंग पर नहीं बन पा रही सहमति

आम आदमी पार्टी के साथ गठबंधन को लेकर कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अहमद पटेल ने कहा कि दिल्ली में लोकसभा की सात सीटों पर 4-3 फॉर्मूला पर आम आदमी पार्टी से बात चल रही थी. अगर आम आदमी पार्टी इस फॉर्मूला से तैयार है तो कांग्रेस भी तैयार है. लेकिन अब माना जा रहा है कि कांग्रेस और आप बिना गठबंधन के चुनाव लड़ने की तैयारी में हैं.

मोदी-शाह को रोकने के लिए गठबंधन जरूरी’

वहीं दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने कहा कि आम आदमी पार्टी का जन्म कांग्रेस के भ्रष्टाचार से लड़ते हुआ था, लेकिन नरेंद्र मोदी और अमित शाह की जोड़ी जिस तरह लोकतंत्र के लिए खतरा बनी हुई है, उसको देखते हुए आम आदमी पार्टी ने गठबंधन पर विचार किया है. उन्होंने कहा कि दिल्ली में कांग्रेस का एक विधायक नहीं है और कांग्रेस दिल्ली में 3 सीट मांग रही है. इस लोकसभा, हरियाणा में कांग्रेस सभी सीट हार रही है. कांग्रेस से गठबंधन हो जाए तो हम 10 सीट पर बीजेपी को हरा सकते हैं.

loading...
शेयर करें