बेटी के लिए इंसाफ की मांग को लेकर सड़क पर उतरे मां-बाप, स्कूल के बाहर लोगों का प्रदर्शन जारी

0

नई दिल्ली। दिल्ली के मयूर विहार स्थित एल्कॉन स्कूल की छात्रा के आत्महत्या मामले को लेकर लोगों में आक्रोश बढ़ता जा रहा है। 9वीं में पढ़ने वाली महज 15 साल की बेटी को इंसाफ दिलाने के लिए आज उसके मां-बाप समेत लोगों की भारी भीड़ सड़क पर उतर आई है। स्कूल के बाहर उनका प्रदर्शन जारी है। इस दौरान भारी जाम लगने से लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। छात्रा के पिता ने मामले की सीबीआई जांच कराने की मांग की है।

स्कूल के प्रिंसिपल समेत दो टीचरों के खिलाफ केस हुआ दर्ज

एल्कॉन पब्लिक स्कूल के प्रिंसिपल व एसएसटी के शिक्षक राजीव सहगल व साइंस की महिला टीचर नीरज आनंद के खिलाफ आत्महत्या के उकसाने, छेड़छाड़ व पॉक्सो एक्ट के तहत केस दर्ज किया है। छात्रा के पिता की तहरीर पर कोतवाली सेक्टर-24 पुलिस में रिपोर्ट दर्ज हुई है। नोएडा पुलिस की एक टीम बुधवार को दिल्ली स्थित स्कूल पहुंची और जांच की। साथ ही फोरेंसिक टीम ने फिंगर प्रिंट व अन्य साक्ष्य एकत्र किए।

मीडिया रिपोर्टस के अनुसार छात्रा के पिता ने आरोप लगाते हुए कहा कि मेरी बेटी ने मुझसे कहा था कि उसका एसएसटी टीचर उसे गलत ढंग से छूता है। मैंने उससे कहा था कि वह ऐसा नहीं कर सकते उनसे गलती हुई होगी, लेकिन मेरी बेटी ने कहा था कि मुझे उनसे डर लगता है। यह मायने नहीं रखता कि मैं क्या लिखूंगी वह हर हालत में मुझे फेल करेंगे। मृतका के परिवार वालों ने बताया कि उनकी बेटी नौवीं क्लास में एकबार फेल हो चुकी थी।

सूत्रों के मुताबिक मंगलवार दोपहर परिवार के सभी लोग कहीं गए हुए थे। छात्रा घर पर अकेली थी। शाम करीब साढ़े चार बजे जब परिवार के लोग घर पहुंचे तो मकान का दरवाजा काफी प्रयास के बाद भी नहीं खुला। किसी प्रकार परिजनों ने मकान के अंदर प्रवेश किया तो देखा कि छात्रा रेलिंग से फंदे के सहारे लटकी हुई है।

छात्रा को आनन-फानन में कैलाश अस्पताल भर्ती कराया, जहां डाक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। हॉस्पिटल में मौजूद डॉक्टर ने बताया कि 15 साल की लड़की को हमारे पास लाया गया था, उस वक्त तक उसकी पल्स और ब्लड प्रेशर रिकॉर्डेबल नहीं थे। हमने उसे बचाने की कोशिश की लेकिन नहीं बचा सके। मौत की वजह का खुलासा पोस्टमार्टम रिपोर्ट के बाद होगा।

loading...
शेयर करें