ग्लेशियर टूटने से उत्तराखंड में तबाही, 100-150 लोगों के हताहत होने की आशंका, SDRF अलर्ट पर

उत्तराखंड के चमोली जिले में सुबह ग्लेशियर टूटने से राज्य अलर्ट पर है, इस हादसे में 100-150 लोगों के हताहत होने की आशंका है

चमोली: उत्तराखंड के चमोली (Chamoli) जिले में सुबह ग्लेशियर (Glacier) टूटने से राज्य में तबाही मची हुई है। उत्तराखंड के मुख्य सचिव ओम प्रकाश ने जानकारी दी है कि चमोली ज़िले में बाढ़ से 100-150 लोगों के हताहत होने की आशंका है।

उत्तराखंड के CM त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने बताया कि चमोली के रिणी गांव में ऋषिगंगा प्रोजेक्ट (Rishiganga Project) को भारी बारिश और अचानक पानी आने से क्षति की संभावना है। नदी में अचानक पानी आने से अलकनंदा के निचले क्षेत्रों में भी बाढ़ की संभावना है। तटीय क्षेत्रों में लोगों को अलर्ट किया गया है। नदी किनारे बसे लोगों को हटाया जा रहा है।

 

मुख्यमंत्री ने कहा कि एहतियातन भागीरथी नदी का फ्लो रोक दिया गया है। अलकनन्दा का पानी का बहाव रोका जा सके इसलिए श्रीनगर डैम तथा ऋषिकेष डैम को खाली करवा दिया है। SDRF अलर्ट पर है। मेरी आपसे विनती है अफवाहें न फैलाएं। मैं स्वयं घटनास्थल के लिए रवाना हो रहा हूं।

यूपी CM ने अधिकारियों को दिए निर्देश

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने उत्तराखंड में बांध के टूटने से उत्पन्न हुई परिस्थितियों को देखते हुए प्रदेश में संबंधित विभागों, अधिकारियों और SDRF को हाई-अलर्ट पर रहने का निर्देश दिया है। मुख्यमंत्री ने गंगा नदी के किनारे स्थित सभी जनपदों के जिलाधिकारियों और पुलिस अधीक्षकों को पूरी सतर्कता बरतने के भी निर्देश दिए हैं।

नदी का जलस्तर सामान्य

उत्तराखंड CM ने कहा कि राहत की खबर है कि नंदप्रयाग से आगे अलकनंदा नदी का बहाव सामान्य हो गया है। नदी का जलस्तर सामान्य से अब 1 मीटर ऊपर है लेकिन बहाव कम होता जा रहा है। राज्य के मुख्य सचिव, आपदा सचिव, पुलिस अधिकारी एवं मेरी समस्त टीम आपदा कंट्रोल रूम में स्थिति पर लगातार नजर रख रही है।

यह भी पढ़ेGhaziabad: डबल मर्डर मामले में पुलिस का बड़ा खुलासा, महिला ने की थी ऐसी हरकत

अमित शाह का बयान

गृह मंत्री अमित शाह ने कहा कि उत्तराखंड में आज सुबह 11 बजे जोशीमठ के आसपास एक बहुत बड़ी दुर्घटना हुई। ग्लेशियर टूटने से पानी का बहाव बहुत बड़ा है, पहले ऋषिगंगा और बाद में अलकनंदा में जलस्तर बढ़ना शुरू हो गया है। कुछ लोगों के हताहत होने की प्राथमिक सूचना मिली है। इसके साथ ही उन्होने यह भी बताया कि देवभूमि को हर संभव मदद दी जाएगी। उत्तराखंड में प्राकृतिक आपदा की सूचना के संबंध में मैंने CM त्रिवेंद्र सिंह रावत और  DG ITBP एंव DG NDRF से बात की है। सभी संबंधित अधिकारी लोगों को सुरक्षित करने में युद्धस्तर पर काम कर रहे हैं। NDRF की टीमें बचाव कार्य के लिए निकल गयी हैं।

NDRF की कुछ और टीमें दिल्ली से एयरलिफ्ट करके उत्तराखंड भेजी जा रही हैं। हम वहां स्थिति को निरंतर मॉनिटर कर रहे हैं।

यह भी पढ़े‘असम की धरती पर षड्यंत्रकारियों की तानाशाही पर लगाम’, मातृभाषा में Medical College की सौगात

Related Articles

Back to top button